भवानीपुर कॉलेज के स्नातक सम्मान समारोह 2020 में एक हजार विद्यार्थी सम्मानित

0
82

कोलकाता :  भवानीपुर एजुकेशन सोसाइटी कॉलेज में ग्रेजुएट के प्रथम श्रेणी प्राप्त एक हजार विद्यार्थियों को सम्मानित किया गया जिसने सभी पिछले रिकार्ड तोड़ दिए। गत सात वर्षों से यह कार्यक्रम कला मंदिर और जी डी बिरला अॉडिटोरियम जैसे बड़े सभागारों में होता था और विद्यार्थियों के अभिभावकों को भी आमंत्रित किया जाता था। गत वर्ष 300 विद्यार्थियों को सम्मानित किया गया था। इस वर्ष 1000 विद्यार्थियों को कॉलेज के नवनिर्मित कॉन्सेप्ट हॉल में दस सत्रों पमें विभाजित कर डिग्री और प्रमाणपत्र दिए गए जो एक रिकार्ड है। कोविड काल में पूरी तरह से सावधानी के साथ कॉलेज मैनेजमेंट ने सीटों की व्यवस्था एवं मास्क सेनेटाइजैशन आदि पर पूरी तरह ध्यान देते हुए किया ।
कॉमर्स विभाग के सर्वोच्च अंक प्राप्त क्रमशः शिवम दीक्षित, काशीनाथ महापात्र, प्राची बजाज, मैत्री चटर्जी और कौशल सिंह, आर्ट्स विभाग के सर्वोच्च अंक प्राप्त क्रमशः स्वरूप सरकार, दृष्टि साहा, नीना घोष, सुतीर्थ राय, रीथिका चक्रवर्ती,
साइंस विभाग से सौमाल्य प्रकाश, अभिषेक अधिकारी, निशिता रहमानी, मृगांक अग्रवाल, मौप्रिया मुखर्जी, नफीसा सिद्दीकी, बीबीए से युनिवर्सिटी रैंक होल्डर्स मुदित डागा, विनीता अध्यालका, कुनाल डागा, रिथिका लुनिया, तुषार वेणुगोपाल रहे। इस अवसर पर कॉमर्स विभाग के 690,मैनेजमेंट विभाग के 108,साइंस विभाग के 108,बीबीए के 92 विद्यार्थियों को ग्रेजुएट की डिग्री और प्रमाणपत्र प्रदान किए गए।
रेणुका भट्ट, जोगेश साहा, टीआईसी डॉ. शुभब्रत गंगोपाध्याय और कॉलेज के डीन प्रो. दिलीप शाह ने दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम के प्रथम सत्र ग्रेजुएशन सम्मान समारोह 2020 का उद्घाटन किया। प्रो दिलीप शाह ने सभी विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि कॉलेज से उनके रिश्ते सदैव रहेंगे, यह विदाई नहीं है बल्कि अब आपको समाज के एक बड़े वर्ग से जुड़ने का समय है। प्रो शाह ने गुजराती शब्द “आऊजू” द्वारा उन्हें शुभकामनाएं दीं जिसका अर्थ है फिर आना।
दूसरे सत्र में कॉलेज के डायरेक्टर डॉ. सुमन मुखर्जी, अमिता पटेल आदि विशिष्ट व्यक्तित्व उपस्थित रहे जिन्होंने सभी विद्यार्थियों को सम्मानित किया। इस सत्र में शुभलक्ष्मी की टीम ने रवींद्र संगीत की सुमधुर प्रस्तुति दी। डॉ सुमन ने अपने वक्तव्य में कहा कि इस संसार में सभी पूर्ण नहीं होते जो कठिन परिश्रम करते हैं वे अपने लक्ष्य तक पहुँचते हैं।
तीसरे सत्र में प्रो मीनाक्षी चतुर्वेदी, नलिनी पारेख और दी इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड एकाउंटेंट के चैयरमैन सुनील गोयल बतौर मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थे।
चौथे सत्र में प्रमुख अतिथि विंग कमांडर विष्णु शर्मा ने अपने प्रेरक अपने पायलट बनने के सपने को पूरा करने के लिए किन किन संघर्षों का सामना करना पड़ा और फिर सपना साकार हुआ, अपने विचारों को विद्यार्थियों से साझा किया।
पांचवें सत्र में प्रमुख अतिथि इंस्टीट्यूट ऑफ कंपनी सेक्रेटरी ईस्टर्न रीजन के प्रमुख सुधीर भरतिया ने अपने विद्यार्थी काल के अनुभवों को साझा किया। उन्होंने वेबसीरीज स्कैम 1992 का भी जिक्र किया। छठें सत्र में एबीपी ग्रुप के डायरेक्टर शास्वत चक्रवर्ती और लोकप्रिय रेडियो जॉकी जिम्मी टेंगरी प्रमुख अतिथि के रूप में उपस्थित रहे।

कलकत्ता विश्वविद्यालय के कॉमर्स विभाग के डीन प्रो सिद्धार्थ शंकर साहा ने अपने वक्तव्य में वर्तमान समय में मैनेजमेंट का महत्व और उसके व्यापक आयामों की चर्चा की और हार्दिक शुभकामनाएं दीं। प्रथम पांच उच्चतम अंक प्राप्त विद्यार्थियों को सम्मानित किया। सुचैता मुंशी साहा, सुपर्णा मुखर्जी, सोमी चटर्जी की टीम ने लोक नृत्य एवं ओडिसी आदि नृत्य प्रदर्शन प्रस्तुति दी।  खुशाली गांधी ने अंग्रेजी में कार्यक्रम की रिपोर्ट लिखी और संचालन दीप्ति पंचारिया और हर्ष दवे ने किया। कार्यक्रम में गांधी जी के प्रिय भजन वैष्णव जन तो तेने कहिए जी पीर पराई जाने रे की धुन से सभागार गूंजता रहा। इस कार्यक्रम की जानकारी दी डॉ वसुंधरा मिश्र ने ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

nine + 16 =