भवानीपुर कॉलेज में विपणन रूपांतरण विषय पर की चर्चा

0
24

कोलकाता । भवानीपुर एजूकेशन सोसाइटी कॉलेज के जुबली सभागार में कॉमर्स लैब के अंतर्गत मार्केटिंग मेटाफारमेसिस विषय पर विद्यार्थियों ने चर्चा की। कॉलेज के डीन प्रो दिलीप शाह ने कॉमर्स लैब के अंतर्गत विपणन कायाकल्प के उद्देश्य को रखते हुए मार्केटिंग के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि यह कार्यक्रम विद्यार्थियों के लिए एक उदाहरण स्वरूप है जिसमें वे अलग – अलग उत्पाद की मार्केटिंग का अनुभव प्राप्त करेंगे। मेटाफारमेसिस का अर्थ है किसी भी क्षेत्र में कायाकल्प या रूपांतरण करना। विद्यार्थियों ने स्वयं अपने विभिन्न उत्पादों की मार्केटिंग की। यह कार्यक्रम तीन भागों में विभाजित रहा। प्रथम भाग में प्रोडक्ट पिचिंग बाजार के विभिन्न उत्पादों के स्लोगन पूछे गए और द्वितीय भाग में गैस दि प्रोडक्ट और तृतीय भाग में मीम पिक्चर द्वारा विद्यार्थियों की टीम ने प्रतियोगिता में भाग लिया। इस कार्यक्रम के सहसंयोजन और वक्ता के रूप में प्रो लक्ष्मी झा, प्रो दिव्या उदेशी, प्रो नितीन चतुर्वेदी रहे।कार्यक्रम के आरंभ में प्रो दिव्या उदेशी ने मार्केटिंग पर अपने विचार व्यक्त किए ।विद्यार्थियों की उनतीस टीमों ने अपने प्रोडक्ट डांडिया, नेल पालिश, स्मोक डिटेक्टर, कैलकुलेटर, लैंप, लिप बाम, जेली, मिरर, वायर, प्रेशर कूकर, शर्ट, नाइफ, कैप, रेडियो, सीसी टीवी , सुपर कम्पास, नेलकटर, नेक मसाज, नेल, फेवकोल, डस्टबीन, स्करुड्राइ, बेल्ट, शॉर्ट, कंबल, फोन कवर, स्मार्ट वाच, स्वीच आदि ने अपने उत्पादों की मार्केटिंग की। वहीं दीवारें बोल उठेंगी – जेके वाल पुट्टी, टोटल कंट्रोल – जेके टायर, ऐसी आजादी और कहां – एअर टेल, प्रकृति का आशीर्वाद – पतंजलि, पेंट योर इमैजिनेनेशन – बर्जर पेंट, शुभआरंभ – सेलेब्रेशन आदि विभिन्न स्लोगनों के उत्तर पूछे गए। प्रो नितीन चतुर्वेदी ने मीम पिक्चर के विषय पर वक्तव्य देते हुए स्लाइड पिक्चर्स द्वारा मीम द्वारा बाजार उत्पाद के प्रति लोगों को आकर्षित कैसे किया जाए, बताया। निर्णायक मंडल में साक्षी शॉ, दुष्यंत चतुर्वेदी, पूजा अग्रवाल , और अमृता राय चौधरी ने अपने निर्णय रखे। प्रमुख अतिथि निर्णायक आईआईएम जयशंकर गोपाल ने अंत में सभी प्रतिभागियों को समवेत रूप से प्रथम द्वितीय और तृतीय स्थान दिए।आईआईएम जयशंकर गोपाल ने कहा कि विद्यार्थियों द्वारा अपने उत्पादों में अंग्रेजी, हिंदी और बांग्ला आदि बहुविध भाषा का प्रयोग किया जो हमें हमारी संस्कृति से जोड़ती है जिससे उत्पाद के प्रति लोगों का ध्यान आकर्षित होता है, जो बाजार बढ़ाने में कारगर सिद्ध होता है। डीन्स अॉफिस द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में प्रो मीनाक्षी चतुर्वेदी, प्रो दिलीप शाह ने सभी निर्णायकों और विजेता विद्यार्थियों को प्रमाणपत्र प्रदान किए। कॅरियर कनेक्ट प्रो उर्वी शुक्ला ने अपने वक्तव्य में मार्केटिंग के परंपरागत तरीकों में नए रूप में अपने विचार लाने के लिए विद्यार्थियों का उत्साहवर्धन किया। कार्यक्रम में सौ से अधिक विद्यार्थियों की उपस्थिति रही । कार्यक्रम का संचालन किया प्रो लक्ष्मी झा, प्रो दिव्या उदेशी और प्रो नितीन चतुर्वेदी ने। प्रो मीनाक्षी चतुर्वेदी ने अपना धन्यवाद वक्तव्य रखा। शिक्षण और शिक्षिकाओं ने भी इसमें भाग लिया। कार्यक्रम की जानकारी दी डॉ वसुंधरा मिश्र ने ।

 

Previous articleस्वाधीनता के 75 वर्ष पर “राष्ट्र विजय उत्सव बांग्लार सोनार माँ 2022”
Next articleदेश के समग्र आर्थिक विकास पर चर्चा आयोजित
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

3 × 5 =