भवानीपुर कॉलेज में सकारात्मक यात्रा पर वेबिनार

0
75

कोलकाता : भवानीपुर एजुकेशन सोसाइटी कॉलेज के बीकॉम सांध्य विभाग ने, ‘सकारात्मक यात्रा की ओर’, विषय पर जागरूकता लाने के लिए गूगल मीट पर वेबिनार का आयोजन किया। कार्यक्रम के प्रारंभ में उद्घाटन सत्र में सभी प्रमुख वक्ताओं का प्रो अरुंधति मजूमदार ने स्वागत किया और डॉ. जोयिता भादुड़ी ने सभी विशिष्ट वक्ताओं का स्वागत करते हुए कोरोना महामारी का समाज पर पड़े प्रभावों पर प्रकाश डाला। प्रमुख वक्ताओं में डॉ सुद्धादत्त चटर्जी- वरिष्ठ फिजीशियन,अंतरराष्ट्रीय मेडिसिन और रुमेटोलॉजी विभाग, अपोलो ग्लिइगल्स हॉस्पिटल लिमिटेड, कोलकाता , जूट उद्योग पुनर्उत्थान हेतु योगदान करने वाली प्रख्यात सामाजिक उद्यमी चैताली दास  एवं  स्टेट एंगैजमेंट ऑफिसर एन एस डी सी बिक्रम कुमार दास रहे जिन्होंने विद्यार्थियों को अपने वक्तव्यों से सकारात्मक विकास की दिशा में महत्त्वपूर्ण सुझाव दिए।
डॉ चटर्जी ने कोविड काल के दौरान शरीर क्रिया विज्ञान पर विस्तार से चर्चा करते हुए कहा किअच्छा और संतुलित भोजन, पूरी तरह से नींद लेना, व्यक्तिगत और सामाजिक स्वस्थता और स्वच्छता, व्यायाम और मानसिक स्वास्थ्य जिससे हम सभी कोरोना काल में उबरे हैं और आगे भी कोरोना को जीतने का एकमात्र यही महत्वपूर्ण उपाय हैं। प्रो देवदत्त सेन ने डॉ सुद्धादत्त चटर्जी का परिचय दिया।
स्ट्रेस मैनेजमेंट और भावनात्मक प्रभाव पर चैताली दास ने कहा कि शारिरिक और उससे होने वाले मानसिक तनाव के कई कारण देखे गए। कोरोना काल में सामाजिकता से कटकर रहने के कारण भूख में बदलाव, श्वास प्रक्रिया में कमी, चिड़चिड़ापन आदि आम बीमारियों को देखा गया। उन्होंने तनाव की पहचान और उसे कम करने तथा ठीक करने के विषय में जानकारी दी। प्रो रिया साहा ने चैताली दास का परिचय दिया।
बिक्रम कुमार दास ने एन एस डी सी में होने वाले कौशल विकास और आर्थिक आत्मनिर्भरता विषय पर विद्यार्थियों से अपने विचार साझा किया। विशेष योजनाओं, प्रोजेक्ट, स्कीम और उनके लिए क्या प्राथमिकताएं हैं जैसे वर्ल्ड स्कील, जूनियर स्कील आदि की जानकारी दी। उन्होंने सुझाव दिया कि युवा विद्यार्थी एन एस डी सी में प्रशिक्षु बन किसी विशेष हुनर को सीखने का काम एवं रोजगार में भी सहायक बन सकते हैं। प्रो देवदत्त सेन ने दास का भी परिचय दिया। इस अवसर पर 100 प्रतिभागी, फैकल्टी सदस्यों और विद्यार्थियों की उपस्थिति रही। अंत में, प्रो. आत्रैय गांगुली ने विशिष्ट अतिथियों के विचारों को संक्षेप में व्यक्त करते हुए मैनेजमेंट के सदस्यों, आईक्यू ए सी, विभागाध्यक्ष और सभी विद्यार्थियों को धन्यवाद दिया। फीड बैक गूगल फार्म में विद्यार्थियों ने अपने विचार भी व्यक्त किए। इस कार्यक्रम की जानकारी दी डॉ वसुंधरा मिश्र ने ।

Previous articleजाति और ब्राह्मणत्व
Next articleकेएमबीएल की ‘पे योर कॉन्टेक्ट’ सुविधा
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में पंजीकरण कर के लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। पंजीकरण करने के लिए सबसे ऊपर रजिस्ट्रेशन पर जाकर अपना खाता बना लें या कृपया इस लिंक पर जायें -https://www.shubhjita.com/registration/

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

1 × 2 =