भारत की प्रथम जैन साध्वी पद्मश्री आचार्य श्री चंदना श्री

0
37

अंजू सेठिया

कोलकाता । भारत जैन महामंडल लेडिज विंग कोलकाता शाखा ने पद्मश्री अवार्ड आचार्य श्री चंदना श्री से मुलाकात की आशीर्वाद लिया । जैन एकता पर हमारे काम की सराहना की और फ़रमाया भी ।राजगीर वीरायतन की संस्थापक आचार्यश्री चंदना जी महाराज का पद्मश्री पुरस्कार के लिए चयन किया गया है। देश की पहली जैन साध्वी, जिन्हें जैन समाज में प्रतिष्ठित आचार्य पद से सम्मानित किया है, आचार्य श्री चंदना श्री जी का जन्म 26 जनवरी 1937 को महाराष्ट्र के अहमदनगर में स्थित कटारिया जैन परिवार में हुआ था। उनके बचपन का नाम शकुंतला था।

आचार्य श्री चंदना ने 14 वर्ष की छोटी सी आयु में ही संन्यास ले लिया था और एक असाधारण यात्रा प्रारंभ की। उन्होंने दीक्षा के तुरंत बाद 12 वर्ष की मौन साधना का कठिन संकल्प लिया और इस दौरान शास्त्रों का गहन अध्ययन किया। इसी दौरान चंदना श्री जी ने अंतरराष्ट्रीय पर्यटन स्थल राजगीर में विरायतन की नींव डाली और तब से लगातार आज तक गरीब परिवार के लोगों की निस्वार्थ सेवा भाव से सामाजिक मदद करती आ रही हैं।

मालूम हो कि आचार्य श्री चंदना जी 53 सालों से लोगों को मुफ्त चिकित्सा, शिक्षा के साथ-साथ सामाजिक आर्थिक रूप से मदद कर रही है। आज पूरे विश्व में 25 स्थानों पर विरायतन का नींव रखते हुए निर्माण कराया है। आचार्य श्री चंदना श्री जी का एक ऐसा नाम है जो सादगी साहस और करुणा को साकार करता है।

उन्होंने जैन धर्म में आ रही रूढ़ियों पर न सिर्फ सवाल खड़े किये बल्कि कई बार उन्हें तोड़ा भी। उनका मानना है मुनि ,आचार्य और साध्वी का कार्य सिर्फ प्रवचन देना नहीं सेवा भी होना चाहिए । वीरायतन पूरे भारतीय उप महाद्वीप में गरीबों के लिये निःशुल्क अस्पताल, स्कूल, कॉलेज और व्यावसायिक प्रशिक्षण जैसे कार्यक्रम संचालित करता है।

वीरायतन ने गुजरात में 2001 के भूकंप, 2004 में आयी सुनामी, 2006 में सूरत की बाढ़, 2008 में कोसी नदी की बाढ़ और 2015 में नेपाल में आये विनाशकारी भूकंप के फौरन बाद आपातकालीन राहत शिविरों और पुनर्वास कार्यक्रमों की जो शुरुआत की उसकी चर्चा आज भी की जाती है। आचार्य श्री चंदना जी ने तीर्थंकर के संदेशों को स्थापित व प्रचारित करने के उद्देश्य से तीर्थ नगरी पलिताना में दिव्य विश्व नामक एक विश्वविद्यालय की स्थापना की है। शक्तिशाली नारी शक्ति 2020 के सर्वे ” नारायणी नमः” में फेम इंडिया मैगजीन और एशिया पोस्ट सर्वे द्वारा समाजिक स्थिती , प्रभाव , प्रतिष्ठा , छवि , उद्देश्य , समाज के लिए प्रयास , देश के आर्थिक और राजनीतिक व्यवस्था पर प्रभाव जैसे दस मानदंडों पर किए गए स्टेकहोल्ड सर्वे में देश की प्रमुख 20 शक्तिशाली नारी में जैन आचार्य चंदना जी प्रमुख स्थान पर है । आचार्य श्री चंदना जी को पद्मश्री मिलने पर न केवल जैन समाज बल्कि देश को भी बड़ा सम्मान मिला है।

Previous articleनिधि एक अधूरी सी प्रेम कथा को पढ़ते हुए
Next articleसुशीला बिड़ला गर्ल्स स्कूल में कई कार्यशालाओं ने मार्च को बनाया ‘मैजिकल’
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

five + 19 =