भारत में आई2प्योर ने लांच किया ‘आई2क्योर’

0
75
नयी दिल्ली : वैश्विक महामारी के मद्देनजर आई2प्योर ने आज भारत में आई2क्योर पेश किया है। जैव-प्रौद्योगिकी कंपनी ने इसमेें मोलेक्यूलर आयोडीन के जैव-रासायनिक गुणों का लाभ लिया है।
आई2क्योर डॉ. जैक केसलर (आई2क्योर के पिता) की दिमाग उपज है और यह एफडीए के नियमों का अनुपालन करता है और आईएसओ 9001ः 2015 और डब्ल्यूएचओ जीएमपी प्रमाणित प्रोडक्ट है। डॉ. जैक केसलर के आविष्कारों के लिए उनके नाम लगभग 26 पेटेंट दर्ज हैं। (इस संख्या में शामिल हैं ऐसे पेटेंट जिनके आवेदन किए गए हैं और जो संयुक्त राज्य अमेरिका के पेटेंट और ट्रेडमार्क कार्यालय (यूएसपीटीओ) से मान्यता प्राप्त हैं।)
आई2क्योर एक बायो-शील्ड एंटीसेप्टिक लोशन है। उपयोग में आसान यह सिंगल-यूज़ ब्रॉड-स्पेक्ट्रम एंटीमाइक्रोबियल है जो कोविड-19 के खिलाफ आयोडीन की सुरक्षा प्रदान करता है। अल्कोहल-आधारित सैनिटाइजर से भिन्न आई2क्योर 12-घंटे तक वायरस, बैक्टीरिया और फंगस के खतरों से संपूर्ण सुरक्षा प्रदान करता है। इसके अतिरिक्त आयोडीन त्वचा को पोषण और नमी देता है जबकि अल्कोहल-आधारित प्रेडक्ट त्वचा में सूखापन और दरार पैदा करते हैं।
नयी पेशकश पर डॉ. जैक केसलर (आई 2 क्योर के आविष्कारक) ने कहा, ”आई2क्योर पेश करने का मकसद दुनिया को ऐसा प्रोडक्ट देना है जो कीटाणुओं और रोगाणुओं के खिलाफ केवल छोटी अवधि की सतही सुरक्षा नहीं दे बल्कि इससे बढ़ कर लाभदायक हो। इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए हम ने वर्षों के शोध से एक फाॅर्मूला तैयार किया है जो हमें हमारे अदृश्य, सूक्ष्म दुश्मन पर जीत दिलाएगा। आई2क्योर तुरत-फुरत काम आने वाले कीटाणुनाशक से भिन्न आपकी त्वचा की रक्षा के लिए त्वचा के लिए हानिकारक अल्कोहल के बजाय मोलेक्यूलर आयोडीन का उपयोग करता है। आई2क्योर का पेटेंट मोलेक्यूलर आयोडीन फाॅर्मूला वास्तव में त्वचा में समा जाता है और फिर भाप बन कर बाहर आता है जो आपके हाथों की त्वचा को 12 घंटे तक रोगाणुरोधी बना देता है।”
डगलस स्पिट्ज (मुख्य कार्यकारी अधिकारी, आई2क्योर) ने बताया, “हम हमारे अदृश्य, अत्यंत सूक्ष्म दुश्मनों का खात्मा करने का समाधान देने की दिशा में निरंतर प्रयासरत हैं। कोई2क्योर में हम एक क्रांति चाहते थे। हाथों की सच्ची सुरक्षा का समाधान चाहते थे और हम ने यह कर दिखाया। हम ने सक्रिय तत्व के रूप में मोलेक्यूलर आयोडीन इस्तेमाल कर कीटाणुनाशक का विकास किया। चिकित्सा विज्ञान में आयोडीन की गिनती सबसे पुराने और सबसे प्रभावी रोगाणुरोधी एजेंटों में होती है। इसलिए हम ने आयोडीन के असर को एक कदम बढ़ा कर त्वचा के अंदर फ्री मोलेक्यूलर आयोडीन पहुंचा दिया है। इतना ही नहीं, कोई बैक्टीरिया या वायरस आयोडीन प्रतिरोधी नहीं है इसलिए इससे कोई दवा प्रतिरोधी रोगजनक नहीं पैदा होगा।”
आई2क्योर का सक्रिय एजेंट मोलेक्यूलर आयोडीन है। यह आपकी त्वचा में समाता है, और इसका दाग या गंध नहीं लगता है। इस तरह यह धुल कर या रगड़ कर हटता नहीं है।
आई2क्योर के बारे में
आई2क्योर एक जैव प्रौद्योगिकी कंपनी है जिसके प्रमोटर संयुक्त राज्य अमेरिका और सिंगापुर के विज्ञान और व्यवसाय जगत के प्रमुख लोग हैं। आई2क्योर डॉ. जैक केसलर (आई2 के पिता) की दिमाग उपज है और यह एफडीए के नियमों का अनुपालन करता है और आईएसओ 9001ः 2015 और डब्ल्यूएचओ जीएमपी प्रमाणित प्रोडक्ट है। इसके पीछे विचार दुनिया को ऐसा प्रोडक्ट देने का है जो कीटाणुओं और रोगाणुओं के खिलाफ महज थोड़ी अवधि के लिए और सतही सुरक्षा से बढ़ कर संपूर्ण सुरक्षा दे।
आई2क्योर दुनिया की पहली कम्पनी है जिसने मोलेक्यूलर आयोडीन आधारित ‘बायो शील्ड’ पेश किया है। यह हाथों के अंदर समा कर स्वच्छता देता है इसलिए न केवल असरदार बल्कि सुरक्षित भी है। साथ ही, हमारी त्वचा को पोषण भी देता है।
आई2क्योर मोलेक्यूलर आयोडीन आधारित मेक इन इंडिया ‘बायो शील्ड’ है। इसके उत्पादन केंद्र हरिद्वार, रुड़की और बद्दी (हिमाचल) में हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

11 − 8 =