भारत में बड़ी चिंता का विषय नहीं है मुद्रास्फीति – राधेश्याम राठो

0
124

कोलकाता । रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) के कार्यकारी निदेशक राधा श्याम राठो का मानना है कि भारतीय अर्थव्यवस्था मजबूत स्थिति में है। मुद्रास्फीर्ति कुछ दिनों के लिए है। राधा श्याम राठो ने अपने संबोधन में कहा कि रूस-यूक्रेन युद्ध और उच्च मुद्रास्फीति ने कोविड से उबरने की उम्मीद को धराशायी कर दिया। वित्तीय वर्ष 2022-23 में विश्व अर्थव्यवस्था के विकास का अनुमान 6.1 प्रतिशत से घटकर 3.6 प्रतिशत हो गया। रूस-यूक्रेन युद्ध ने विश्व अर्थव्यवस्था को प्रभावित किया है क्योंकि रूस कई खाद्य वस्तुओं, धातुओं और खनिजों का प्रमुख आपूर्तिकर्ता है। पहले, विशेषज्ञों का मानना ​​था कि मुद्रास्फीति क्षणिक थी। अब यह अटल हो गया है। यह अनुमान लगाया गया है कि वैश्विक मुद्रास्फीति 6.2 प्रतिशत होगी। कई देशों में बहुवर्षीय मुद्रास्फीति उच्च है। मुद्रास्फीति का नेतृत्व कमोडिटी की कीमतों में वृद्धि के कारण होता है। दरअसल जनवरी से मई 2022 के बीच कच्चे तेल की कीमतों में करीब 50 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है।
मर्चेंट्स चेम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री द्वारा आयोजित एक परिचर्चा सत्र को सम्बोधित करते हुए उन्होंने यह बात कही। सत्र में वैश्विक अर्थव्यवस्था में हाल के रुझानों और भारतीय वित्तीय बाजार पर इसके संभावित प्रभाव पर चर्चा की गयी। भारतीय अर्थव्यवस्था के संदर्भ में उन्होंने आगे कहा कि अप्रैल 2022 में सीपीआई बढ़कर 7.79 प्रतिशत हो गया है। आरबीआई अब मुद्रास्फीति पर अधिक और विकास पर कम ध्यान केंद्रित कर रहा है। इसलिए पहले इसने रेपो रेट को 40 बीपीएस और सीआरआर को 50 बीपीएस और जून में रेपो रेट को 50 बीपीएस से बढ़ाकर 4.9 प्रतिशत कर दिया है। उन्होंने आश्वासन दिया कि मुद्रास्फीति भारत में बड़ी चिंता का विषय नहीं है क्योंकि इसकी मुद्रास्फीति 7.5% प्रतिशत जबकि लक्ष्य 6 प्रतिशत है। इसकी तुलना में संयुक्त राज्य अमेरिका में मुद्रास्फीति 8 प्रतिशत है जबकि लक्ष्य 2 प्रतिशत है। इसलिए भारत अमेरिका से बेहतर स्थिति में है। उन्होंने कहा कि अति-वैश्वीकरण का युग समाप्त हो गया है। देश वर्तमान स्थिति में आत्मनिर्भरता या आत्मानबीर पर ध्यान केंद्रित करेंगे। हालांकि, राष्ट्र व्यापार और आपूर्ति श्रृंखला पर जोर देंगे। जबकि वैश्वीकरण मरा नहीं है, हम अब बहुध्रुवीय दुनिया में रहते हैं जहां देश अपने स्वयं के ब्लॉक बना रहे हैं। उदाहरण के लिए चीन का उन देशों में प्रभाव है जिनकी उसने मदद की है।
वर्तमान भारतीय आर्थिक परिदृश्य का वर्णन करते हुए राठो ने कहा कि भारत जी20 में सबसे तेजी से बढ़ने वाला देश है। उसी तरह भारत में ब्याज दर बढ़ेगी। हालांकि हाल के व्यापार समझौते और पीएलआई योजना जैसे सकारात्मक कारक हैं जो महत्वपूर्ण क्षेत्रों में आयात को कम करेंगे। उन्होंने आगे दर्शकों को सुझाव दिया कि हमें आशावादी होना चाहिए कि भविष्य बेहतर होगा और तर्कसंगत रूप से नहीं सोचना चाहिए।
स्वागत भाषण में एमसीसीआई के अध्यक्ष ऋषभ कोठारी ने कहा कि रेपो दर में 50 आधार अंकों की वृद्धि करके 4.9% की उम्मीद की गई है। पिछले दो महीनों में यह दूसरी दर वृद्धि थी, पहले 22 मई को हुई थी, जब मौद्रिक नीति समिति ने एक अनिर्धारित बैठक में रेपो दर में 40 आधार अंकों की बढ़ोतरी की थी।

Previous articleद हेरिटेज अकादमी में आयोजित हुआ फिल्मोत्सव
Next articleदायित्व निभाते हुए अधिकारों के प्रति भी सचेतन हो स्त्री -डॉ. राजश्री शुक्ला
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

4 × five =