मिस इंडिया नहीं बनी लेकिन सबके दिल तक जरूर पहुंची मान्या सिंह

0
143

पापा के ऑटोरिक्शा पर की सवारी

मुम्बई : मिस इंडिया 2020 रनरअप चुनी गई मान्या सिंह ने ऑटोरिक्शा की सवारी की। उनके पिता चालक की सीट पर बैठे जबकि उनकी मां ने पीछे की सीट पर बैठकर ‘ब्यूटी क्वीन’ का हाथ पकड़ रखा था। मान्या के पिता ओम प्रकाश सिंह ऑटोरिक्शा चालक हैं। उनके माता-पिता ने कहा कि यह एक असंभव सपने को संभव बनाने की कहानी है। इस दौरान 18 ऑटोरिक्शा की एक किलोमीटर तक ठाकुर गांव क्षेत्र से ठाकुर विज्ञान और वाणिज्य कॉलेज तक रैली निकाली गयी और ओमप्रकाश ने इस रैली का नेतृत्व किया। मान्या के पिता ओमप्रकाश ने ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया, ”आज जब मैं ऑटो चला रहा था, तब यह अनियंत्रित खुशी थी। मैं कोशिश कर रहा था कि मैं रोऊं नहीं। मुझे याद आया कि कैसे मैं उसे कभी-कभी उसके कॉलेज तक छोड़ता था। आज, मैं उसे उसके सिर पर क्राउन के साथ ले जा रहा था। मुझे लगता है कि मुझे मेरे जीवन की खुशी मिल गई है।”

पिता के साथ मान्या

19 वर्षीय मान्या की मां मनोरमा ने रैली के बाद कहा, ”मैं मान्या के जैसी बेटी पाकर भाग्यशाली हूं। उसने अपने सपने को हासिल करने के लिए दिन-रात एक कर दिया। हम उसके साथ खड़े रहे और उसने यह सब कर दिखाया। अब, मुझे आशा है कि सभी माता-पिता अपनी बेटियों को आसमान छूने के लिए प्रोत्साहित करेंगे। कृपया अपनी बेटियों का समर्थन करें, ताकि वे सपने देखती रहें।” मुम्बई में जन्मीं मान्या का पालन पोषण उत्तर प्रदेश के छोटे से शहर हाटा में हुआ था। मान्या को पिछले सप्ताह एक समारोह में वीएलसीसी फेमिना मिस इंडिया 2020 रनर-अप का ताज पहनाया गया। ओमप्रकाश (45) अपने परिवार के साथ कार्यक्रम स्थल पर पहुंचे तो वह अपने आंसूओं को रोक नहीं पा रहे थे जबकि 38 वर्षीय मनोरमा ने अपनी बेटी और छोटे बेटे को शिक्षित करने के अपने संघर्ष को याद किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

seventeen − six =