मोबाइल ऐप से फिर शुरू हुई जनरल टिकट की बुकिंग

0
238

काउंटर पर लंबी कतार से मिलेगी मुक्ति
नयी दिल्ली : टिकट बुकिंग के लिहाज से रेलवे ने रेल यात्रियों को बड़ी राहत दी है। अब यात्रियों को जनरल टिकट लेने के लिए लंबी कतार में खड़े रहने की जरूरत नहीं, क्योंकि इसे मोबाइल ऐप के जरिए भी बुकिंग की जा सकती है। रेलवे ने यह कदम कोरोना महामारी को देखते हुए उठाया है। टिकट काउंटर पर सोशल डिस्टेंसिंग नियमों का पालन करते हुए UTS यानी अनरिर्जव्ड टिकट सिस्टम ( अनारक्षित टिकट प्रणाली) के जरिए अनारक्षित टिकट बुक करने की सुविधा फिर से शुरू करेगी। यानी अब जनरल टिकट से रेल यात्रा एक बार फिर की जा सकेगी। पिछले साल लॉकडाउन के दौरान यह सुविधा रोक दी गयी थी । गौरतलब है कि इंडियन रेलवे का बुकिंग प्लेटफॉर्म देश में सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाने वाला ऑनलाइन प्लेटफॉर्म है।
इससे बुकिंग काउंटरों पर जुटने वाली भीड़ कम होगी और सामाजिक दूरी के नियमों का भी अनुपालन किया जा सकेगा। रेल मंत्रालय के मुताबिक रेलवे अनारक्षित ट्रेन सेवा को धीरे – धीरे आरम्भ किया जायेगा। UTS ऑन मोबाइल ऐप की सुविधा 2018 से शुरु है। इसके जरिए यात्री ट्रेन टिकट बुक/कैंसिल कर सकते हैं। ऐंड्रॉयड के लिए गूगल प्ले और आईफोन के लिए ऐप स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है। आप भी जानिए घर बैठे जनरल टिकट कैसे बुक कर सकते हैं-
सबसे पहले प्ले स्टोर से UTS ऑन मोबाइल ऐप को डाउनलोड करना होगा ऐप को जीपीएस अनुमति देनी होगी। नतीजतन, यात्री स्टेशन के 5 किलोमीटर के दायरे से टिकट बुक कर पाएंगे।
ऐप पर रजिस्ट्रेशन के लिए UTS पर नाम, मोबाइल नंबर और दूसरी जरूरी व्यक्तिगत जानकारी देना होगा। रजिस्ट्रेशन प्रोसेस यानी पंजीकरण प्रक्रिया को लेकर आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी (वन टाइम पासवर्ड) भेजा जाएगा।
रजिस्ट्रेशन होने के बाद UTS ऑन मोबाइल ऐप के लिए यात्री की आई डी और पासवर्ड जेनरेट हो जाएगा। इसका इस्तेमाल करके यात्री अनारक्षित ट्रेन टिकट बुक कर सकते हैं।
यात्रियों को PNR नम्बर भी दिया जाएगा, जिसमें एक PNR पर यात्री अधिकतम चार टिकट बुक कर सकते हैं।
टिकट के लिए भुगतान डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड या पेटीएम आदि से किया जा सकता है। वर्तमान में कोरोना पूर्व की तुलना में 65% मेल और एक्सप्रेस ट्रेनें चल रही हैं। इसके अलावा 90% से ज्यादा लोकल ट्रेनों का संचालन किया जा रहा है। डेटा के मुताबिक हर दिन 1,250 मेल और एक्सप्रेस ट्रेनें चल रही हैं, जबकि 5,350 लोकल ट्रेन और 326 से ज्यादा पैसेंजर ट्रेनों का संचालन किया जा रहा है।

Previous articleअनीस थापा ने जीता अबूझमाड़ पीस हाफ मैराथन
Next articleमोबाइल और सोशल मीडिया पर रहता है ध्यान, तो काम शुरु करने से पहले करें ये काम
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

four × 2 =