ये रहे घर से सुरक्षित बैंकिंग हेतु कुछ उपयोगी सुझाव

0
58

बैंकिंग फ्राॅम होम यानी बैंक संबंधी कार्य घर से करना आज के वक्त में बहुत सुविधाजनक हो गया है। ग्राहकों के लिए कई ऐसे टूल्स उपलब्ध हैं जिनके जरिए वे अपने मोबाइल/कंप्यूटर का इस्तेमाल करते हुए बड़ी ही आसानी और सुरक्षित ढंग से घर बैठे कई प्रकार के लेनदेन कर सकते हैं। हालांकि यह भी सच है कि बैंकिंग उद्योग में धोखाधड़ी भी बढ़ रही है खासकर ईएमआई स्थगन, केवायसी अपडेशन और यूपीआई के मामलों में यह ज्यादा हो रही है। कोटक महिन्द्रा बैंक (कोटक) नियमित तौर पर सक्रियता के साथ अपने ग्राहकों तक पहुंचता है और उन्हें समझाता है कि सुरक्षित बैंकिंग के लिए किस प्रकार सतर्कता बरतनी चाहिए और कुछ बुनियादी सावधानियों का पालन करना चाहिए।

सुरक्षित बैंकिंग हेतु कुछ उपयोगी बातेंः

1. अपने पासवर्ड, ओटीपी, एटीएम पिन, कार्ड का ब्यौरा जैसी संवेदनशील जानकारियां किसी को भी न बताएं। कोटक आपसे ऐसी सूचनाएं कभी नहीं पूछता।
2. ईएमआई स्थगन संबंधी धोखाधड़ी के बारे में सचेत रहेंः धोखेबाजों ने ग्राहकों को ठगने का नया तरीका खोज निकाला है। ये फर्जी लोग बैंक के प्रतिनिधि बन कर ग्राहकों से सम्पर्क करते हैं और उनसे गोपनीय बैंकिंग ब्यौरा पूछते हैं जैसे उनका पासवर्ड, पिन, ओटीपी आदि तथा उनसे कहते हैं कि ईएमआई भुगतान को टलवा देंगे। अपनी ऐसी गोपनीय सूचनाएं कभी किसी को न बताएं। कोटक अपने ग्राहकों से ऐसी कोई भी जानकारी नहीं पूछता।

3. केवाईसी और रि-केवायसी संबंधी धोखाधड़ी से सावधान रहें। यदि आपको संदिग्ध व अनजान ईमेल आईडी या मोबाइल से कोई लिंक आए जिसमें केवायसी या रि-केवायसी पूरा करने को कहा गया हो तो उस पर क्लिक न करें। बैंक से सम्पर्क करने के लिए वेबसाइट पर विज़िट करें।

4. यूपीआई के जरिए पैसा प्राप्त करने के लिए क्यूआर कोड स्कैन करने अथवा पिन या ओटीपी ऐंटर करने की जरूरत नहीं होती।

5. स्क्रीन शेयरिंग ऐप्स जैसे ऐनीडेस्क, टीमव्यूअर आदि को डाउनलोड करने से परहेज़ करें क्योंकि इनके जरिए धोखाधड़ी करने वाले आपके उपकरण को काबू में कर लेते हैं, आपकी गोपनीय बैंकिंग जानकारी हासिल कर के आपकी जानकारी के बगैर आपके बैंक खाते और धन तक पहुंच जाते हैं।

6. बैंकिंग ट्रांज़ेक्शन पर तुरंत अपडेट पाने के लिए अपने एसएमएस और ईमेल अल्र्ट को एक्टिवेट करें।

7. बैंक से सम्पर्क की जानकारी के लिए हमेशा बैंक की अधिकारिक वेबसाइट विज़िट करें। जब भी ई-कॉमर्स या किसी सेवा प्रदाता के नंबर ऑनलाइन तलाश रहे हों तो सतर्क रहें। धोखाधड़ी करने वाले सर्च साइटों पर अपने नंबर अपडेट करते हैं और जब कोई व्यक्ति उन्हें कॉल करता है तब वे कैशबैक या रिफंड का वादा करते हुए बैंक खाते का गोपनीय ब्यौरा मांगते हैं। कम्पनी की वैबसाइट पर जा कर उसकी कॉन्टेक्ट डिटेल्स चैक करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

19 − 2 =