विजयादशमी विशेष : बहुत महत्व रखती है शमी पूजा और अपराजिता

0
33

विजयादशमी के दिन अपराजिता पूजा और शमी पूजा का विशेष महत्व है। घर वापसी के लिए यह दिन आदर्श है। नारी पूजा की जाती है। नए कपड़े और आभूषण पहनाए जाते हैं। राजाओं द्वारा अपने हथियारों या धन की पूजा की जाती है। विजयादशमी के दिन रावण दहन होता है। नवरात्रि के दसवें दिन बुराई पर अच्छाई की जीत का जश्न मनाया जाता है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि विजयादशमी का मतलब सिर्फ रावण दहन नहीं है। इस दिन का महत्व इससे आगे भी है। विजयादशमी के दिन नवरात्रि पर्व का समापन होता है। शास्त्रों में उल्लेख है कि इस दिन मां दुर्गा धरती से अपने संसार के लिए प्रस्थान करती हैं। यही कारण है कि विजयादशी को यात्रा तिथि भी कहा जाता है। इस दिन किसी भी दिशा में यात्रा करने में कोई दोष नहीं है।
विजयादशमी के दिन अपराजिता पूजा और शमी पूजा का विशेष महत्व है। घर वापसी के लिए यह दिन आदर्श है। नारी पूजा की जाती है। नए कपड़े और आभूषण पहनाए जाते हैं। राजाओं द्वारा अपने हथियारों या धन की पूजा की जाती है। यह राजाओं, सामंतों और क्षत्रियों के लिए विशेष महत्व का दिन है।


नीलकंठ के दर्शन होते हैं शुभ
इस दिन नीलकंठ पक्षी का दर्शन शुभ माने जाते हैं। नीलकंठ पक्षी को शास्त्रों में भगवान का प्रतिनिधि बताया गया है। यही कारण है कि यह पक्षी दशहरे पर देखा जाता है। भगवान शंकर ने विष पिया था और नीलकंठ कहलाए। यह पक्षी भी नीलकंठ है, इसलिए इसकी दृष्टि शुभ मानी जाती है। नीलकंठ को भारत में किसानों का मित्र भी माना जाता है क्योंकि यह अनावश्यक कीड़ों को खाकर किसान की मदद करता है।
पढ़िए शमी के पत्तों की कहानी
शास्त्रों में एक कथा है। कौत्स महर्षि वर्तंतु के शिष्य थे। अपनी शिक्षा पूरी होने पर वर्तुन्तु ने उनसे गुरु दक्षिणा में 14 करोड़ सोने के सिक्के मांगे। इसकी व्यवस्था करने के लिए कौत्स महाराज रघु के पास गए। रघु ने पहले ही दान के लिए खजाना खाली कर दिया था।
उन्होंने कौत्स से तीन दिन का समय मांगा और इंद्र पर हमला करने का विचार किया। इंद्र ने घबराकर कोषाध्यक्ष कुबेर को रघु के राज्य में सोने के सिक्कों की बारिश करने का आदेश दिया। कुबेर ने शमी के पेड़ से सोने की वर्षा की। जिस दिन बारिश हुई थी, उसी दिन विजयदशमी का त्योहार मनाया गया था।

Previous articleसृजन सारथी सम्मान के लिए चयनित हुईं प्रो. प्रेम शर्मा
Next articleतो यह है पूजा और त्योहारों में गेंदे का महत्व
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

eight − 4 =