विदेशी कंपनी की नौकरी का ऑफर ठुकराकर ड्रैगन फ्रूट्स की खेती से कमा रहे लाखों

0
25

कौशांबी । सिराथू तहसील के युवा किसान रवींद्र पांडेय ने खेती को मुनाफे का सौदा करके दिखाया है। कैक्टस प्रजाति के पौधे ड्रैगन फ्रूट्स की खेती ने किसान की जिंदगी बदल दी है। 62 हजार रुपये की लागत लगा कर युवा किसान मौजूदा समय में 4 लाख रुपये सालाना कमा रहे हैं। गणित विषय से स्नातक रवींद्र ने विदेशी कंपनियों के ऑफर छोड़ कृषि को अपना कॅरियर बना कर बेरोजगार युवाओं के लिए मिसाल बन गए है। टेगाई गांव निवासी सुरेश चंद्र पांडेय पेशे से किसान है, उनके 3 बेटे है। बड़ा बेटा प्रवीण कुमार नौसेना में सैनिक है।
रवींद्र कुमार ने स्नातक की पढ़ाई गणित विषय से कर मल्टी नेशनल कंपनी में काम करने का सपना संजोया था। सबसे छोटा बेटा अवनीश पांडेय अभी प्रयागराज से पढ़ाई कर रहा है। रवींद्र पांडेय ने बताया कि बीएससी की पढ़ाई पूरी कर वह नौकरी की तैयारी कर रहे थे। इसी दौरान 7 साल पहले कृषि गोष्ठी में उनकी मुलाकात तत्कालीन डीएम अखंड प्रताप सिंह ने हुई। जिन्होंने उन्हें कैक्टस प्रजाति के पौधे ड्रैगन फ्रूट्स के बारे में बताया। पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर उसने 10 बिस्वा खेत में ड्रैगन फ्रूट्स की नर्सरी तैयार कराई। इसके बाद उनके जीवन में बदलाव का नया सवेरा लेकर आया। अब वह उन्नतशील खेती कर ड्रैगन फ्रूट्स और पौध बेच कर 4 लाख सालाना कमा रहे है।
विदेशी विशेषज्ञों से सीखा तरीका
रवींद्र पांडेय के मुताबिक पिता सुरेश चंद्र पांडेय के मदद से उन्होंने 62 हजार रुपये खर्च कर 400 पौध ड्रैगन फ्रूट्स की पौध रोपित की। पहले चरण के 2 वर्ष में रासायनिक खाद का प्रयोग करने के चलते पौध में अपेक्षा कृत फल नहीं आए, जिसको लेकर वह काफी निराश हुए। रवींद्र ने उसका हल खोजने के लिए इंटरनेट पर विदेशों में ड्रैगन फ्रूट्स की खेती करने वाले किसानों से संपर्क किया। जिन्होंने उन्हें खेत में रासायनिक खाद का प्रयोग बंद कर जैविक खाद का प्रयोग में लाने की सलाह दी। इसके प्रयोग के बाद उन्हें उम्मीद से अधिक अच्छे परिणाम मिले। मौजूदा समय में खेत में फल लगने का खरीददार इंतजार करते है। इसके अलावा ड्रैगन फ्रूट्स के पौधे गैर जनपद से आकर किसान खरीद कर ले जाते है, जो अच्छी आमदनी का जरिया है।
डेंगू के मरीज के लिए भी है ड्रैगन फ्रूट्स फायदेमंद
कृषि वैज्ञानिक मनोज सिंह ने बताया कि ड्रैगन फ्रूट्स में एंटीऑक्सीडेंट भरपूर मात्रा में होता है। इसके अलावा इसमें कई अन्य गुण जैसे फेनोलिक एसिड, फाइभर, फ्लेवोनोइड पाया जाता है, जो डायबिटीज को कंट्रोल करने में प्रभावी है। ड्रैगन फ्रूट्स डायबिटीज के साथ-साथ दिल को हेल्दी बनाए रखने में मदद करता है। डेंगू मरीज के लिए यह फल राम बाण औषधि के रूप के प्रयोग में लाइ जाती है।
रिपोर्ट – अशोक विश्‍वकर्मा
(साभार – नवभारत टाइम्स)

Previous articleबांग्ला साहित्य और भारतीय स्वतंत्रता संग्राम पर संगोष्ठी
Next articleआधार बनवाए 10 साल हो गए? एक बार अपडेट करा लें
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

thirteen − nine =