विनेश ने जीता यूक्रेन रेसलिंग टूर्नामेंट का खिताब

0
125

भारतीय पहलवान विनेश फोगट ने कोरोना के बाद सुनहरी वापसी की। एक साल बाद रिंग में उतरी विनेश ने यूक्रेन की राजधानी कीव में चल रहे आउटस्टैंडिंग यूक्रेनियन रेसलर्स और कोचेस मेमोरियल टूर्नामेंट में गोल्ड पदक जीता। फाइनल में उन्होंने पूर्व वर्ल्ड चैम्पियन वेनेसा कलाजिंसकाया को हराया। मैच के दौरान विनेश 6-8 से पीछे चल रही थीं, लेकिन आखिरी 35 सेकंड में उन्होंने 4 पॉइंट लेकर खेल पलट दिया।
53 किग्रा वेट कैटेगरी इवेंट के फाइनल में खेल रत्न से सम्मानित विनेश ने 2017 की वर्ल्ड चैम्पियन और वर्ल्ड नंबर-7 बेलारूस की कलाजिंसकाया को 10-8 से शिकस्त दी।
जिस पैर में फ्रैक्चर से विनेश को छोड़नी पड़ी बाउट, उसी को लोहे जैसा बनाया
विनेश को 2016 के रियो ओलिंपिक में पैर में फ्रैक्चर होने से बीच में बाउट छोड़नी पड़ी थी। वे 6 महीने बिस्तर पर रहीं। एक्सरसाइज नहीं कर सकती थीं, इसलिए खुद को दिमागी रूप से मजबूत करती रहीं। मेहनत कर उन्होंने 2018 में कॉमनवेल्थ और एशियाड में गोल्ड जीते। 2019 में वर्ल्ड सीनियर चैम्पियनशिप में ब्रॉन्ज मेडल जीतकर टोक्यो ओलिंपिक का टिकट पक्का किया। विशेषज्ञों ने पैर बचाकर खेलने की सलाह दी, पर विनेश ने लेग अटैक को अपनी मजबूती बनाया। वर्ल्ड चैम्पियनशिप में भी अंक बटोरने में लेग अटैक का सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया।
टोक्यो ओलिंपिक के लिए पहले ही क्वालिफाई कर चुकीं
विनेश ने शनिवार को सेमीफाइनल में रोमानिया की एना ए को 2-0 से हराया था। उन्होंने राउंड ऑफ-16 में लूलिया लिओर्डा और क्वार्टर फाइनल में कैट्सियारिना पिचकोसकाया को हराया था। वे नवंबर, 2020 से यूरोप में प्रशिक्षण ले रही हैं। लॉकडाउन में विनेश हरियाणा में अपने गांव में प्रैक्टिस कर रही थीं। जबकि, उनके कोच वोलर एकोस वर्चुअली विनेश के रुटीन का ध्यान रखते थे।
2 कॉमनवेल्थ गेम्स और 1 एशियम गेम्स में स्वर्ण जीत चुकीं
इस साल की शुरुआत में विनेश बुडापेस्ट में फिर से अपने कोच से जुड़ गई थीं। यूक्रेन के बाद अब वे रोम जाएंगी। वहां 4 से 7 मार्च तक होने वाले सीजन के पहले रैंकिंग टूर्नामेंट में हिस्सा लेंगी। विनेश ने कॉमनवेल्थ गेम्स (2014, 2018) में 2 और एशियन गेम्स (2018) में एक स्वर्ण जीता है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

2 − one =