विमेन्स सेल और आईक्यूएसी के सौजन्य से आयोजित हुआ महिला दिवस

0
48

कोलकाता ।  भवानीपुर एजुकेशन सोसाइटी कॉलेज के वोमेन सेल और आईक्यूएसी ने मनाया अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस। इस अवसर पर टीआईसी डॉ सुभब्रत गंगोपाध्याय ने प्रमुख अतिथि विद्यासागर विश्वविद्यालय की ऐसोसिएट प्रोफेसर डॉ. भास्वती चटर्जी का स्वागत करते हुए अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर शुभकामनाएं दीं। ‘विमेन एंड सोशयल रिफार्म्स’ पर अपना शोध पेपर पढा़ । 19वीं शताब्दी भारत में स्त्रियों की स्थितियों पर विभिन्न एक्टों का पूर्ण विवेचन किया। विवाह, विधवा विवाह, स्त्री अधिकारों की चर्चा की। विवाह और संपत्ति अधिकार आदि सुधारों पर भी चर्चा की। 20वीं शताब्दी में होने वाले हिंदू और मुस्लिम स्त्रियों के अधिकारों पर भी चर्चा की। विवाह, तलाक बहुपत्नी विवाह की समाप्ति, संपत्ति अधिकार नये रिफार्म्स नियम आए। विवाह पर 28 बिल, तलाक पर 12 बिल, संपत्ति पर 19 बिल आए।स्त्री से संबंधित विवाह के कई बिलों के विषय पर अपना महत्वपूर्ण वक्तव्य दिया। पॉलिटिकल साइंस विभाग के प्रो. करन वोरा ने लिंग पर चर्चा करते हुए कई उदाहरणों से अपनी बात रखी। पुरुषों और स्त्रियों, दोनों लिंग की असमानता जो समाज में परंपरागत रूप से चली आ रही है, उसमें समय, कार्य तथा परिवर्तन की आवश्यकता है। प्रो देवज्यानी गांगुली ने अध्यक्षता करते हुए दोनों अतिथि वक्ताओं को धन्यवाद दिया और कहा कि स्त्री की लड़ाई की कहानी यात्रा लंबी है लेकिन वर्तमान में बहुत हद तक कई क्षेत्रों में बदलाव आया है। पितृसत्तात्मक समाज, विवाह की उम्र, यूनीफॉर्म सिविल कोड, भारत की न्यायिक प्रणाली, एक्ट आदि की अनदेखी आदि कई विषयों पर प्रश्नोत्तर सेशन में शिक्षक और विद्यार्थियों ने प्रश्न किए। अंत में, सांस्कृतिक कार्यक्रम में अंग्रेजी विभाग की प्रोफेसर सौरजा टैगोर ने रवीन्द्र नाथ टैगोर के अनछुए गीतों पर भाव, लय, अभिनय और अभिव्यक्ति से पूर्ण नृत्य प्रस्तुति दी। उनमें महिला दिवस विषय को ध्यान में रखते हुए ‘आमार मोतन के आछे’अर्थात् स्त्री जैसा कौन है, ‘रवीन्द्र नाथ टैगोर के गीतों पर नायिका और सखी की कहानी, भानुसिंह पदावली, चंडालिका से नृत्य प्रस्तुति दी जो बहुत ही सराही गई। शांतिनिकेतन से आई मनीषा मुरली नायर साथ में तबला पर पं बिप्लव मंडल और श्रीमती अरुंधति राय रहे। सांस्कृतिक कार्यक्रम का संयोजन किया प्रो तथागत सेन ने।प्रो देवांजना चक्रवर्ती ने धन्यवाद ज्ञापन किया। इस कार्यक्रम की जानकारी दी डॉ वसुंधरा मिश्र ने ।

Previous article‘विविधता में एकता का प्रतीक है मातृभाषा’
Next articleराष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर उत्सव आयोजित
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

two × 1 =