वैज्ञानिकों ने खोजे 41,500 साल पुराने ‘जेवर’, हाथी के दांत से बनाया गया था पेंडेंट

0
104

वारसॉ : पोलैंड में पुरातत्वविदों ने विशाल हाथी दांत से बने 41,500 साल पुराने पेंडेंट के अवशेष खोजे हैं, जिन्हें खास निशानों से सजाया गया है। कहा जा रहा है कि ये रेकॉर्ड में यूरेशिया के आधुनिक मानव द्वारा बनाए गए गहनों का सबसे पुराना नमूना है। पेंडेंट, जो अब दो टुकड़ों में है, 2010 में पोलैंड के स्टैजनिया गुफा में किए गए पुरातात्विक उत्खनन के दौरान पाया गया था। वैज्ञानिकों की एक टीम ने साइंटिफिक रिपोर्ट्स मैग्जीन में गुरुवार (25 नवंबर) को ऑनलाइन प्रकाशित एक पेपर में बताया कि हाल ही में हुए रेडियोकार्बन से पता चलता है कि यह पेंडेंट 41,500 साल पुराना है। टीम ने एक बयान में कहा कि पेंडेंट की सजावट में एक लूपिंग कर्व में 50 से अधिक पंचर के निशान और दो छेद शामिल है। उन्होंने नोट किया कि प्रत्येक पंचर का निशान एक सफल पशु शिकार या चंद्रमा या सूर्य के चक्र का प्रतिनिधित्व करता है।
पेंडेंट के गले में पहनने का अनुमान
शोधकर्ताओं ने अध्ययन में लिखा, ‘यह यूरेशिया में अपनी तरह का सबसे पुराना ज्ञात आभूषण है और यह यूरोप में आधुनिक होमो सेपियंस के प्रसार से सीधे जुड़ी एक नई तारीख स्थापित करता है।’ इटली में बोलोग्ना विश्वविद्यालय में रसायन विज्ञान की प्रोफेसर और अध्ययन की प्रमुख शोधकर्ता सहरा तालामो, जो मानव विकास और रेडियोकार्बन डेटिंग में माहिर हैं, ने कहा पेंडेंट संभवतः गले में पहना जाता था लेकिन हम इसे लेकर कोई दावा नहीं कर सकते हैं।
इंसानों ने पहली बार क्यों पहने गहने?
शोधकर्ताओं ने कहा कि पेंडेंट ऐसे समय में बनाया गया था जब शारीरिक रूप से आधुनिक मानव दुनिया भर में पहली बार गहने और शरीर के आभूषणों के अन्य रूपों का विकास कर रहे थे। तालामो ने कहा कि इंसानों ने उस समय गहनों का इस्तेमाल करना क्यों शुरू किया, यह एक रहस्य है जिसे शोधकर्ता समझने की कोशिश कर रहे हैं।
(साभार – नवभारत टाइम्स)

Previous articleदेश में पहली बार पुरुष से ज्यादा महिलाएं :  नेशनल फैमिली एंड हेल्थ सर्वे
Next articleजिजिविषा का अद्भुत उदाहरण हैं राजकोट के मारू
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

six − 1 =