शरद पगारे को उपन्यास ‘पाटलिपुत्र की सम्राज्ञी’ हेतु व्यास सम्मान

0
291

नयी दिल्ली : इतिहासकार और साहित्यकार शरद पगारे के उपन्यास ‘पाटलिपुत्र की सम्राज्ञी’ को केके बिड़ला फाउंडेशन के प्रतिष्ठित व्यास सम्मान (वर्ष 2020) के लिए चुना गया है। इस सम्मान के तहत चार लाख रुपये, प्रशस्ति पत्र और प्रतीक चिह्न प्रदान किया जाता है। 5 जुलाई, 1931 को खंडवा (मप्र) में जन्मे शरद पगारे इतिहास में एमए, पीएचडी हैं और महाविद्यालयीन प्राचार्य पद से सेवानिवृत्ति के बाद स्वतंत्र लेखन में रत हैं। वे शिल्पकर्ण विश्वविद्यालय, बैंकाक में अतिथि प्राचार्य के रूप में सेवाएं दे चुके हैं। कई सम्मानों से नवाज़े जा चुके पगारे के अब तक पांच उपन्यास, छह कहानी संग्रह, दो नाटक व शोध प्रबंध प्रकाशित हुए हैं।

Previous articleनहीं रहीं अभिनेत्री शशिकला, 88 साल की उम्र में निधन
Next articleगीता प्रेस के अध्यक्ष राधेश्याम खेमका का निधन
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

20 − 7 =