शिक्षा केवल डिग्री हासिल करने की प्रतियोगिता नहीं है : धर्मेन्द्र प्रधान

0
22

राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर पुस्तिका जारी
नवोन्मेष-संचालित वर्चुअल स्कूल शुरू
दिव्यांगों को सशक्त बनाने आई “प्रिया-द एक्सेसिबिलिटी वॉरियर”

कोलकाता : केंद्रीय शिक्षा और कौशल विकास मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि शिक्षा केवल डिग्री हासिल करने की प्रतियोगिता नहीं है, बल्कि चरित्र निर्माण और अंततः राष्ट्र निर्माण के लिए ज्ञान का लाभ उठाने का एक उपकरण है। मंत्री ने जोर देकर कहा कि सरकार स्कूलों में बुनियादी ढांचे के उन्नयन की सुविधा के लिए काम कर रही है, जैसे कि यह सुनिश्चित करना कि इंटरनेट देश भर के गांवों के स्कूलों तक पहुंचे।
धर्मेन्द्र प्रधान और केंद्रीय सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री वीरेंद्र कुमार ने आज संयुक्त रूप से एक वर्षीय नयी शिक्षा नीति (एनईपी) – 2020 उपलब्धि पर कुछ प्रमुख पहलों के साथ पुस्तिका जारी की । नयी शिक्षा नीति- 2020 जैसे दीक्षा पर निपुण भारत एफएलएन उपकरण और संसाधन; एनआईओएस का वर्चुअल स्कूल; एनसीईआरटी का वैकल्पिक शैक्षणिक कैलेंडर; और एनसीईआरटी और विकलांग व्यक्तियों के अधिकारिता विभाग द्वारा विकसित ‘प्रिया’- एक्सेसिबिलिटी बुकलेट का लोकार्पण किया गया। केंद्रीय शिक्षा और कौशल विकास मंत्री ने एनआईओएस के वर्चुअल स्कूल का उद्घाटन करते हुए कहा कि यह स्कूल सीखने का एक नया मॉडल है और एक उदाहरण है कि कैसे प्रौद्योगिकी और नवाचार का लाभ शिक्षा में अधिक समावेश की सुविधा प्रदान कर सकता है। उन्होंने कहा कि यह स्कूल देश में अपनी तरह की पहली पहल है जो वर्चुअल लाइव क्लासरूम और वर्चुअल लैब के माध्यम से उन्नत डिजिटल लर्निंग प्लेटफॉर्म प्रदान करेगा। श्री प्रधान ने यह भी कहा कि एनसीईआरटी का वैकल्पिक शैक्षणिक कैलेंडर शिक्षकों और अभिभावकों को बच्चों की शिक्षा में प्रगति का आकलन करने में सुविधा प्रदान करने के लिए विकसित किया गया है। वैकल्पिक शैक्षणिक कैलेंडर में सीखने के परिणामों, विषयों और पाठ्यक्रम या पाठ्यपुस्तक से लिए गए अध्यायों के संदर्भ में दिलचस्प और चुनौतीपूर्ण गतिविधियों की सप्ताहवार योजना शामिल है। इस अवसर पर बोलते हुए वीरेंद्र कुमार ने कहा कि जागरूकता और एक संवेदनशील समुदाय किसी भी क्रांतिकारी परिवर्तन को चलाने वाले आवश्यक ईंधन हैं। सुगमता को बढ़ावा देने के लिए सरकार की प्रतिबद्धता ने ई-कॉमिक सह गतिविधि पुस्तक का विकास किया, जिसका शीर्षक है – ‘प्रिया- द एक्सेसिबिलिटी वॉरियर’। कुमार ने स्कूली शिक्षा और साक्षरता विभाग और उच्च शिक्षा विभाग दोनों से एक मिशन मोड पर सुलभ शैक्षिक बुनियादी ढांचे और सामग्री को बनाने का कार्य करने का आग्रह किया, जो कि नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति का एक महत्वपूर्ण घटक समावेशी शिक्षा की दिशा में लगातार प्रगति कर रहा है। उन्होंने कहा कि भारत की स्वतंत्रता के 75वें वर्ष के अवसर पर, आइए हम सभी अपने बच्चों के साथ मिलकर ‘पहुंच-योग्य योद्धा’ बनें और अपने सभी नागरिकों के उज्जवल भविष्य के निर्माण के लिए समावेशी शिक्षा को वास्तविकता बनाएं। “प्रिया-द एक्सेसिबिलिटी वॉरियर” थी, जो विकलांग व्यक्तियों के अधिकारिता विभाग (दिव्यांगजन), सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय और स्कूली शिक्षा और साक्षरता विभाग के सहयोगात्मक प्रयासों का परिणाम है। यह प्रिया नाम की एक लड़की की दुनिया की झलक प्रदान करता है, जो एक दुर्घटना का शिकार हो गई थी और पैर में प्लास्टर होने के कारण चल नहीं सकती थी। कहानी दर्शाती है कि कैसे प्रिया स्कूल में सभी गतिविधियों में भाग लेने में सफल रही, और इस प्रक्रिया में पहुंच के महत्व को सीखा। इसलिए, वह एक एक्सेसिबिलिटी योद्धा होने का संकल्प लेती है। कॉमिक बुक भारतीय सांकेतिक भाषा (आईएसएल) व्याख्यात्मक वीडियो के साथ भी उपलब्ध है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

twelve + thirteen =