शीतकालीन खेलों का लोकप्रिय गन्तव्य उत्तराखंड

0
33

पर्यटन के आकर्षक गन्तव्यों की बात हो तो उत्तराखंड बहुत पसन्द किया जाने वाली जगह है । बर्फ से ढके पहाड़ों में शीतकालीन खेलों के लिए घरेलू और विदेशी पर्यटकों को यह स्थान खूब भा रहा है । एक तरफ जहाँ अपने तीर्थ स्थानों के लिए उत्तराखंड जाना जाता है शीतकालीन खेलों के लिए भी पर्यटक यहाँ आ रहे हैं ।
अगर आप साहसी हैं तो पहाड़ों की बर्फबारी में खेलना, ट्रैकिंग करना आपको पसन्द आएगा । अगर आपको शांति और सुकून चाहिए तो खूबसूरत प्राकृतिक दृश्यों से भरे शांत गाँवों में जाना और स्थानीय संस्कृति और जायकों का आनन्द उठाना आपको अच्छा लगेगा ।
गढ़वाल के औली में स्कींग करना यहाँ का मुख्य आकर्षण है । राज्य सरकार यहाँ बच्चों को प्रशिक्षित करने की तैयारी कर रही है और संरचना विकसित करने का काम चल रहा है । सरकार औली में स्किंग चैम्पियनशिप आयोजित करने पर विचार कर रही है । स्किंग बेतुईधार, दायरा बुग्याल, मुन्डली और खलिया टॉप में भी लोकप्रिय है । कुमायुँ में स्थित खलिया टॉप 3500 मीटर ऊँचा है और यहाँ से पंचाचुलीली, राजरम्भा एवं नंद कोट के मनोरम दृश्य देखे जा सकते हैं ।
पिथौरागढ़ जिले में स्थित चौकोरी अपनी प्राकृतिक सुन्दरता से सबका मन मोह रहा है । यहाँ आपको सूर्योदय एवं सूर्यास्त की अद्भुत छटा दिखती है और साथ ही नंदा देवी पंचाचुली, नंद कोट, त्रिशूल एवं चौखंभा के मनोरम वातावरण से आप मुग्ध हो उठेंगे ।
उत्तराखंड के शीतकालीन खेलों की बात चलती है तो रिवर राफ्टिंग ऐसा खेल है जो बहुत पसंद किया जाता है । ऋषिकेश इस खेल के लिए विश्व प्रसिद्ध है और दुनिया भर से यहाँ पर्यटक इस खेल का आनन्द लेने आते हैं । धवल शीत गंगा जल के अतिरिक्त शारदा नदी में यह खेल आरम्भ किया गया है । शारदा नदी सरयू की सहायक नदी है जो चम्पावत जिले के तनकपुर से होकर गुजरती है । इस नदी के साथ एक राफ्टिंग पर्यटन पर्यटकों को टनकपुर में चरण मंदिर और 13 किमी दूर बूम तपस्वी बाबा आश्रम के बीच 4 रैपिड्स के माध्यम से ले जाती है। रिवर राफ्टिंग के लिए सबसे अच्छा समय दिसंबर से फरवरी तक है, जब बारिश के बाद जल स्तर कम होने के बाद ग्लेशियर से लदी नदियां एकदम स्वच्छ जल से भर जाती हैं। रिवर राफ्टिंग के साथ, पर्यटक नदी घाटियों और घाटियों की सुंदरता का आनंद ले सकते हैं, जिसमें रोमांच, आनंद और प्रफुल्ल कर देने वाला अनुभव है ।
अगर आप खुले आसमान में ऊंची उड़ान का अनुभव चाहते हैं तो उत्तराखंड में पैराग्लाइडिंग का प्रयास करें। आसमान की ऊंचाई पर जब पैरों के नीचे जमीन नहीं होती तो पहाड़ों और घाटियों को देखने का रोमांच भरने वाली स्मृति बन जाता है। उत्तराखंड में पैराग्लाइडिंग की सबसे अच्छी बात यह है कि यहां पैराग्लाइडिंग के लिए किसी पूर्व सूचना की जरूरत नहीं है। उत्तराखंड में पैराग्लाइडिंग के लिए दो सबसे प्रसिद्ध स्थान मुक्तेश्वर और रानीखेत हैं; यहां विशेषज्ञों के साथ जोड़ी पैराग्लाइडिंग उड़ानें उपलब्ध हैं। प्रिय शीतकालीन गंतव्य के अलावा, जो सुंदर सैर, साहसिक खेल और दर्शनीय स्थलों की यात्रा प्रदान करता है, पूरे उत्तराखंड में सर्दियों के महीनों में दिन के दौरान तेज धूप और रात में टिमटिमाते सितारों के साथ ट्रेकिंग और कैंपिंग के बेहतरीन अवसर मिलते हैं। तो सर्दियों के रोमांच के लिए उत्तराखंड की ओर निकल पड़िए..और क्या ।

 

Previous articleबाल सृजन – दो कविताएं
Next articleसेहत के साथ सौन्दर्य का खजाना है घी
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

five × three =