संघर्ष :ऑनलाइन कक्षाओं के लिए रोजाना 50 किमी यात्रा करने को मजबूर

0
201

निसर्ग तूफान के कारण इंटरनेट में आ रही दिक्कत

200 बच्चे करते हैं 50 किली सफर

कोरोना वायरस के कारण स्कूल-कॉलेज बंद होने की वजह से पढ़ाई जारी रखने के लिए ऑनलाइन कक्षाओं का सहारा लिया जा रहा है। लेकिन महाराष्ट्र के विद्यार्थी  इन क्लासेस में हिस्सा लेने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। दरअसल, कोरोना के दौरान महाराष्ट्र में इंटरनेट कनेक्शन की दिक्कत के चलते रत्नागिरी जिले जैसे दूरस्थ तटीय गांवों के करीब 200 बच्चों को ऑनलाइन क्लास के लिए रोजाना 50 किलोमीटर की यात्रा करनी पढ़ रही है। पहले कोरोना महामारी और फिर चक्रवाती तूफान निसर्ग से प्रभावित दूरदराज के गांवों के बच्चों को जून की शुरुआत से ही इंटरनेट संबंधी इन दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में शिक्षा में किसी भी तरह की रुकावट न हो, इसके लिए यहां विद्यार्थी  एक लंबा सफर तय कर अपनी पढ़ाई कर रहे हैं।

चक्रवाती तूफान को लगभग एक महीना गुजर चुका है, लेकिन एक महीने बाद भी स्थिति में सुधार नहीं है। ऐसे में अपनी समस्या लेकर एक बच्चा आखिरकार मदद के लिए राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (NCPR) के पास जा पहुँचा। शिकायत पर नेशनल कमीशन फॉर एक्शन चाइल्ड राइट्स ने बच्चों को आश्वासन दिया कि जल्द ही इलाके में कनेक्टिविटी की समस्या का समाधान किया जाएगा। वहीं, जिला मजिस्ट्रेट को लिखे एक लेटर में कानूनगो ने जल्द से जल्द समाधान करने कोकहा। उन्होंने लिखा कि जून को आए निसर्ग तूफान की वजह से इंटरनेट कनेक्टिविटी को हुए नुकसान के कारण लॉकडाउन में करीब 200 स्टूडेंट्स ऑनलाइन क्लासेस में हिस्सा नहीं ले पा रहे है। बेहतर इंटरनेट के लिए बच्चों को 50 किलोमीटर तक का सफर करना पड़ता है। ऐसे में उन्होंने मामले में रत्नागिरी के जिलाधिकारी से तत्काल हस्तक्षेप करने की मांग की। साथ ही उन्होंने जिलाधिकारी से यह भी मांग की, कि संबंधित सेल्यूलर सेवा प्रदाता को उचित निर्देश जारी करते हुए जल्द से जल्द इंटरनेट कनेक्टिविटी की समस्या को सॉल्व करें, ताकि किसी भी बच्चे को ऑनलाइन पढ़ाई में परेशानी ना हो।

(साभार – दैनिक भास्कर)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

17 − 7 =