सख्त प्रोटोकॉल से ही सम्भव है कोविड -19 को रोक पाना : ऐसोचेम

0
316

कोलकाता : ऐसोचेम का मानना है कि कोविड -19 से निपटने का सर्वश्रेष्ठ तरीका है कि प्रोटोकॉल को लेकर सख्ती बरती जाये। इसमें सामाजिक दूरी, मास्क पहनने, पर्याप्त सफाई जैसे नियम शामिल है। लॉकडाउन, रात्रि कर्फ्यू तथा गतिविधियों पर रोक लगाना सही समाधान नहीं है क्योंकि इससे आर्थिक गतिविधियाँ प्रभावित हो सकती हैं। ऐसोचेम के महासचिव दीपक सूद ने कहा लोगों की आवाजाही पर रोक लगाये बगैर ही आर्थिक गतिविधियों का संचालन सम्भव है मगर सामाजिक दूरी, मास्क और कार्यस्थलों को सैनेटाइज करके ही यह किया जाना चाहिए। सूद ने आर्थिक गतिविधियों में आयी तेजी पर सन्तोष जताया और कहा कि वित्त वर्ष 2020 -21 की तीसरी तिमाही में प्रगति अच्छी रही और चौथी तिमाही के बेहतर होने की उम्मीद है। घरेलू पर्यटन, उड्डयन. सार्वजनिक परिवहन क्षेत्रों में अच्छी वापसी हुई है। इसके साथ ही उन्होंने कोरोना वायरस के बढ़ते मामले भी चिन्ता का कारण हैं मगर पिछले साल के अनुभव के कारण खुद को नियंत्रण में रखना आसान होगा। अच्छी बात है कि कोविड -19 की वैक्सीन अब है और इससे देश को कोरोना से निपटने में मदद मिल रही है। हम सुरक्षा सम्बन्धी नियमों को नजरअंदाज नहीं कर सकते, बचाव और टीकाकरण ही सर्वश्रेष्ठ समाधान है।

 

Previous articleकोविड -19 वैक्सीन आपूर्ति : साथ आये आरडीआईएफ और स्टेलिस बायोफर्मा
Next articleजीएचसीएल के इको फ्रेंडली उत्पादों की नयी रेंज बाजार में
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

eleven + 17 =