सफलता की ओर बढ़ता हुआ हर नया कदम ही आपकी उपलब्धि है : आशु पाटोदिया

0
377

ग्राफिक डिजाइनिंग की दुनिया में आशु पाटोदिया एक जाना – माना नाम है। मल्टीमीडिया की पढ़ाई के दौरान वे सर्वश्रेष्ठ 3 डी एनिमेटर अवार्ड जीत चुकी हैं। 2011 में आशु ने अपना ब्रांड आशुपी. क्रिएटिव्स शुरू किया। वे 123 ग्रीटिंग्स की शीर्ष स्टूडियो कलाकार भी हैं। बंगाल में महिला उद्यमियों को सशक्त बनाने के लिए गठित में वेस्ट बंगाल मार्केटिंग काउंसिल (डब्ल्यूबीएमसी) से भी जुड़ी हैं। ग्राफिक एवं वेब डिजाइनर सह उद्यमी आशु पाटोदिया से शुभजिता की बातचीत हुए, प्रमुख अंश आपके लिए – 

मल्टीमीडिया के परचों से जाना अपना उद्देश्य

कॉलेज की पढ़ाई के दौरान मैंने देखा कि हर कोई सीए या सीएस बनना चाहता है और उसी को ध्यान में रखकर विषय भी चुनता है। मुझे यह नहीं करना था..कुछ अलग करना था। उसी दौरान मेरे हाथ में ऐरेना मल्टीमीडिया के परचे आए जो मेरे ही कॉलेज के बाहर बाँटे जा रहे थे…और इनको देखकर अहसास हुआ कि दरअसल, मुझे करना क्या है और भविष्य में मुझे करना क्या है।

कोई नहीं मानता था कि मल्टीमीडिया एक कॅरियर भी हो सकता है

2009 में मैंने अपना कॅरियर शुरू किया था। यह वह समय था जब लोग मल्टीमीडिया के बारे में कुछ नहीं जानते थे। किसी को तब यह नहीं पता था कि इस क्षेत्र में नौकरी के अवसर हैं, कॅरियर बनाया जा सकता है। तब कोई स्वीकार ही नहीं कर पाता था कि डिजाइनिंग कोई कार्य क्षेत्र भी हो सकता है।

अपने दम पर काम करने की सन्तुष्टि अधिक प्रिय थी

जब शुरुआत की थी तो उद्योग जगत की हस्तियों तक मेरी पहुँच नहीं थी। बतौर फ्री लॉन्र्सर छोटी – छोटी जरूरतों के लिए काम करना पड़ता था। तब उस काम को करने के लिए जो भुगतान होता था, वह बहुत ज्यादा नहीं होता था लेकिन उस काम को करने में सन्तुष्टि अधिक थी क्योंकि यह अहसास होता था कि मैं अपने दम पर काम कर रही हूँ औऱ यह मेरा आत्मविश्वास बढ़ाता था।

युवाओं पर दबाव है. नहीं होना चाहिए

जरूरी है कि हम अपनी सामाजिक सीमाओं को तोड़कर अपनी क्षमताओं को जानें। मैंने देखा है कि आज के युवाओं को सही समय पर पर सही व्यक्ति का मार्गदर्शन नहीं मिल पाता। उन पर दबाव है जो नहीं होना चाहिए…उनको समझना चाहिए कि कोई क्षेत्र छोटा या बड़ा नहीं होता। हर प्रतिभा का अपना महत्व है।

अधिकारों के प्रति जागरूक हो महिलाएं

मुझे लगता है कि महिलाएं पहले से ही काफी सशक्त हैं और पूरी दुनिया में अच्छा काम कर रही हैं। संघर्षशील महिलाओं को मेरा सन्देश होगा कि वे अपने अधिकारों के प्रति जागरूक हों और उसका महत्व समझें।

सफलता की ओर हर एक नया कदम ही उपलब्धि है

मुझे लगता है कि सफलता की ओर बढ़ता हुआ हर नया कदम आपकी उपलब्धि है। मैंने अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर काम किया है। वर्ष 2012 में 123 ग्रीटिंग्स डॉट क़म में और 2019 में विमेन ऑन्ट्रोप्रेनियर का अवार्ड पाना एक उपलब्धि है।

अपने लिए काम कीजिए और अपना महत्व बढ़ाइए

दूसरों के हिसाब से अपना आकलन मत करिए। आगे बढ़िए और अपना महत्व बढ़ाइए। किसी और के लिए नहीं अपने लिए काम कीजिए।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

six − 6 =