सम्पर्क का कमाल – कोलकाता से मिली केरल के सैकड़ों मजदूरों को सहायता

0
309

कोलकाता : आम तौर पर सम्पर्क क्षमता का उपयोग व्यावसायिक स्तर पर किया जाता है मगर इसी क्षमता के कारण कोरोना की विभिषका में फँसे श्रमिकों को जीवन दान दिया। दरअसल, कोलकाता की बेस्ट फ्रेंड्ज सोसायटी की सदस्य निशा सिंह और सचिव शगुफ्ता हनाफी ने केरल के पेरमवूर स्थित बंगाली मार्केट में फँसे बंगाल के मुर्शिदाबाद स्थित दोमकल गाँव के 400 दिहाड़ी मजदूरों की समस्याओं का समाधान किया। कोलकाता के स्थानीय मीडिया की सहायता से इन दोनों ने केरल की स्थानीय मीडिया से सम्पर्क किया। शगुफ्ता ने बताया कि उनको एक मुशिर्दाबाद के फिजियोथेरेपिस्ट सैमुअल का फोन आया। शगुफ्ता के मुताबिक पी आर प्रोफेशनल होने के नाते उनका उनसे परिचय था। सैमुअल ने इन श्रमिकों के नाम और जानकारी भी दी। बगैर समय नष्ट किये शगुफ्ता ने फेसबुक और व्हाट्सऐप समूहों में सारी जानकारी दी और फिर उनके पास फैशन डिजाइनर तथा इस गैर सरकारी संगठन निशा सिंह का फोन आया और सम्पर्क शुरू हो गया। निशा ने कहा कहा कि एकमात्र उद्देश्य यही था कि ये मजदूरों को भूखा न सोने दिया जाये। पीआर तथा सम्पर्क सलाहकार शगुफ्ता ने बताया कि चार दिन दिन से इन सब मजदूरों ने खाना नहीं खाया था। स्थानीय पंचायत से लेकर शहर के कलेक्टर, मंत्रियों से लेकर एस पी और आई पी एस अधिकारियों और मीडियाकर्मियों से सम्पर्क किया। यह साझा प्रयत्न रंग लाया। बेस्ट फ्रेंड्ज सोसायटी जनतार चिठी के शौभिक, एस पी एरनाकुलम, आई पी एस रवीन्द्रन शंकरन, प्रशान्त मेनन, सुमित, उत्तराखंड की पी आर सलाहकार पूजा, पी आर सलाहकार साहिर, तस्वीर, उद्यमी मफदलाल, फिजियोथेरेपिस्ट सैमुअल का आभारी है।
नोट – सभी खबरें फर्जी नहीं होतीं, कुछ भी कहने से पहले तथ्यों की पड़ताल करना सही कदम है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

twelve + 10 =