सलमा कुरैशी ने संस्कृत में की पीएचडी, बनना चाहती हैं प्रोफेसर

0
232

भावनगर : सलमा कुरैशी गुजरात यूनिवर्सिटी की मुस्लिम छात्रा है। उन्होंने संस्कृत में पीएचडी की है। इस विश्वविद्यालय से पीएचडी करने वाली वे पहली मुस्लिम महिला हैं। उन्हें गीता, पुराण और हिंदी धर्मशास्त्र बचपन से पढ़ना अच्छा लगता था इसलिए स्कूल के दिनों में ही संस्कृत उनका प्रिय विषय था। उन्होंने 2017 में पीएचडी की रिसर्च के लिए दाखिला लिया था। सलमा की बड़ी बहन भी इसी विषय में पीएचडी कर रही हैं। भावनगर यूनिवर्सिटी से एम ए में उन्हें गोल्ड मेडल मिला था। पीएचडी पूरी करने में सलमा को तीन साल लगे।
सलमा कहती हैं -”मेरी दिलचस्पी संस्कृत में देखते हुए घर के लोगों ने कभी इस विषय को लेकर कोई एतराज नहीं किया। उन्होंने हमेशा मेरा साथ दिया। हालांकि हिंदू धर्म के अधिकांश स्कल्पचर संस्कृत में होने की वजह से इसे इसी धर्म से जोड़ा जाता है। लेकिन मेरा मानना है कि भाषा का संबंध किस धर्म से नहीं होता। किसी भी विद्यार्थी को उसकी रुचि के अनुसार भाषा चुनने का हक है”।
सलमा को इस बात का अफसोस है कि आज की शिक्षा प्रणाली में पुराने जमाने की तरह शिक्षकों को वो इज्जत नहीं दी जाती, जिसकी वे हकदार हैं। उनका कहना है कि संस्कृत को एक अनिवार्य भाषा के तौर पर स्कूलों में लागू करना चाहिए।

 

Previous articleस्त्री हो या पुरुष दोनों के के कंधों पर बराबर- बराबर होना चाहिए श्रम का भार
Next articleखाना बच गया है तो करें इस तरह इस्तेमाल
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

5 × two =