हम पंछी उन्मुक्त गगन के

0
184

“पराधीन सपनेहु सुख नाही।”दूसरों के ऊपर निर्भर व्यक्ति कभी भी सुखी नहीं हो सकता। स्वतंत्रता प्रिय व्यक्ति कभी भी गुलामी का जीवन नहीं जी सकता।जीवन में वह अनेकों दुखों, तकलीफों से गुजरता है किंतु किसी के समक्ष अपना मस्तक नहीं झुकाता।

शिक्षिका – नीलम सिंह

हम पंछी उन्‍मुक्‍त गगन के
पिंजरबद्ध न गा पाएँगे,
कनक-तीलियों से टकराकर
पुलकित पंख टूट जाऍंगे।

हम बहता जल पीनेवाले
मर जाएँगे भूखे-प्‍यासे,
कहीं भली है कटुक निबोरी
कनक-कटोरी की मैदा से,

स्‍वर्ण-श्रृंखला के बंधन में
अपनी गति, उड़ान सब भूले,
बस सपनों में देख रहे हैं
तरू की फुनगी पर के झूले।

ऐसे थे अरमान कि उड़ते
नील गगन की सीमा पाने,
लाल किरण-सी चोंचखोल
चुगते तारक-अनार के दाने।

होती सीमाहीन क्षितिज से
इन पंखों की होड़ा-होड़ी,
या तो क्षितिज मिलन बन जाता
या तनती साँसों की डोरी।

नीड़ न दो, चाहे टहनी का
आश्रय छिन्‍न-भिन्‍न कर डालो,
लेकिन पंख दिए हैं, तो
आकुल उड़ान में विघ्‍न न डालो।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

8 + 4 =