25 साल की हुई देश की पहली स्वदेशी हैचबैक कार ‘इंडिका’

0
16

नयी दिल्ली । भारतीय कारोबार जगत के भीष्म पितामह कहे जाने वाले रतन टाटा कितने इमोशनल हैं ये हम सब जानते हैं। टाटा को बुलंदियों पर पहुंचाने वाले रतन टाटा ने अपनी ड्रीम कार के लिए एक बार फिर से इमोशनल पोस्ट लिखा है। टाटा की ये ड्रीम कार 25 साल की हो गई। है इंडिका (Indica) कार के 25 साल पूरे होने पर रतन टाटा ने अपने दिल की बात लिखी। उन्होंने पुराने दिनों को याद करते हुए लिखा तुम मेरे दिल के बेहद करीब हो।
रतन टाटा ने लिखी दिल की बात
टाटा इंडिका कार के 25 साल पूरे हो गए हैं। ये कार रतन टाटा के दिल के बेहद करीब है। उन्होंने इस कार के लॉन्च के दिनों को याद करते हुए कहा कि यह कार उनके दिल के बेहद पास है। उसके लिए उनके दिल में खास जगह हैं। रतन टाटा ने अपने इंस्टाग्राम पेज पर पोस्ट लिखा। इस कार के साथ अपनी एक फोटो भी शेयर की। उन्होंने टाटा इंडिका के लॉन्च के दिनों को याद करते हुए कहा कि 25 साल पहले भारत की पहली स्वदेशी कार का जन्म हुआ था। आज भी यह कार मेरे लिए अच्छी यादों का खजाना है। मेरे दिल में इस कार के लिए खास जगह है। रतन टाटा के इस पोस्ट को लोग खूब पसंद कर रहे हैं। 29 लाख से ज्यादा लोगों ने लाइक्स किया है। इससे पहले रतन टाटा ने अपने भाई जिमी टाटा के साथ अपने बचपन की फोटो शेयर की थी।
देश की पहली स्वदेशी हैचबैक कार
टाटा की इंडिका कार देश की पहली इंडियन हैचबैक कार थी। टाटा के पैसेंजर व्हीकल्स सेक्शन में इंडिया सबसे पॉपुलर कार रही। साल 1998 में टाटा ने इस कार को पूरी स्वदेशी कार बताते हुए लॉन्च किया। लंबे अरसे तक इस कार ने खूब धूम मचाई है। 5 सीटर ये कार मिडिल क्लास के बीच खूब पॉपुलर हुई। रतन टाटा हमेशा से ऐसी कार बनाना चाहते थे, जो आम लोगों तक पहुंच सके। टाटा की पहचान ट्रांसपोर्ट व्हीकल्स, जैसे ट्रक, बस बनाने वाली कंपनी के तौर पर होती थी। साल 1991 में जब उन्होंने टाटा की कमान संभाली तो उन्होंने पैसेंजर व्हीकल्स पर जोर दिया। 30 सितंबर क1998 को उन्होंने पूरी तरह से स्वदेशी पैसेंजप कार टाटा इंडिका लॉन्च कर दी। आपको जानकर हैरानी होगी एक हफ्ते के भीतर ही 1.15 लाख कारों की बुकिंग हो गई। इंडिका की लोकप्रियता इतनी बढ़ी कि लगातार दो सालों तक वो कार अपने सेगमेंट में नंबर 1 पर बनी रही।

Previous articleसम्राट ललितादित्य….चीन तक विस्तृत था जिनका साम्राज्य
Next articleकोरोना काल में जमा स्‍कूल फीस का 15 प्रतिशत हो माफ – इलाहाबाद हाईकोर्ट 
शुभजिता की कोशिश समस्याओं के साथ ही उत्कृष्ट सकारात्मक व सृजनात्मक खबरों को साभार संग्रहित कर आगे ले जाना है। अब आप भी शुभजिता में लिख सकते हैं, बस नियमों का ध्यान रखें। चयनित खबरें, आलेख व सृजनात्मक सामग्री इस वेबपत्रिका पर प्रकाशित की जाएगी। अगर आप भी कुछ सकारात्मक कर रहे हैं तो कमेन्ट्स बॉक्स में बताएँ या हमें ई मेल करें। इसके साथ ही प्रकाशित आलेखों के आधार पर किसी भी प्रकार की औषधि, नुस्खे उपयोग में लाने से पूर्व अपने चिकित्सक, सौंदर्य विशेषज्ञ या किसी भी विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। इसके अतिरिक्त खबरों या ऑफर के आधार पर खरीददारी से पूर्व आप खुद पड़ताल अवश्य करें। इसके साथ ही कमेन्ट्स बॉक्स में टिप्पणी करते समय मर्यादित, संतुलित टिप्पणी ही करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

thirteen − four =