850 करोड़ के शेयर वाले बैंक के एम डी आदित्य पुरी

0
78

मुम्बई : एमडी आदित्य पुरी के नेतृत्व में एचडीएफसी  बैंक ने शनिवार को पहली तिमाही का परिणाम घोषित किया। इसमें उसे 6,658 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ हुआ। हाल में एचडीएफसी बैंक की एजीएम हुई थी। इसमें देश में किसी भी कमर्शियल बैंक में सबसे लंबे समय तक एमडी रहनेवाले आदित्य पुरी ने शुरुआती दौर को याद किया। आज की तारीख में भारत के सबसे बड़े निजी बैंक की स्थापना का श्रेय पाने वाले पुरी ने एचडीएफसी बैंक को 6 लाख करोड़ रुपये के मार्केट कैप वाला बैंक बना दिए। पुरी अक्टूबर में रिटायर हो जाएंगे। एजीएम में पुरी ने कहा कि जब हमने अपने इस बैंक की स्थापना करीब 25 साल पहले की तो उसमें से हमारे कई साथी बच्चे थे। बाटा के जूते पहनने वाले कई साथी उसमें से मिडिल क्लास से आते थे। उनमें से कई तो विदेशी कंपनियों में अच्छे पदों पर काम कर रहे थे। उन सभी के दिलों में यह लालसा थी कि भारत में भी एक वर्ल्ड क्लास बैंक स्थापित हो। मुझे अच्छी तरह याद है कि जब मैं सैंडोज हाउस में लोगों को बैंक के लिए तैयार कर रहा था तो यही कहता था कि आओ और बेस्ट बैंक ऑफ द वर्ल्ड के साथ जुड़ जाओ।
25 साल पहले चूहे काट देते थे एचडीएफसी बैंक के तार
वे कहते हैं कि जब हम काम शुरू कर रहे थे, तो हमारे पास पैसे नहीं थे। इसलिए हमने कमला मिल्स में जाकर अपना कार्यालय खोला। जब हम सुबह वापस आए तो पाया कि कंप्यूटर और अन्य मशीनें ठीक से काम ही नहीं कर रही थी, क्योंकि चूहों ने उनके केबल को कुतर डाला था। हमारी स्थिति ऐसी थी कि शुरू में हमारे ट्रेनिंग केंद्र पेड़ों के नीचे हुआ करते थे। पर भगवान का शुक्र है कि हमने फैसला लिया, हम आगे बढ़े और हम वहां हैं, जहां हम हैं।
बाटा वाले आज नौकरी न भी करें तो जीवन जी सकते हैं
पुरी ने कहा कि अशोक खन्ना ने भी जांच प्रक्रिया में हिस्सा लिया था और बाद में वे मार्च 2020 को रिटायर हो गए। पुरी ने कहा कि अर्थव्यवस्था की गति में थोड़ा उतार-चढ़ाव देखने को मिल सकता है क्योंकि लॉकडाउन के दौरान पेंट अप डिमांड में थोड़ी कमी आई है। पुरी के मुताबिक, एचडीएफसी बैंक का उत्तराधिकारी हमेशा बैंक के भीतर से ही आना चाहिए। अब यह आरबीआई पर निर्भर करता है कि बैंक ने जो सिफारिश की थी, उस पर वह क्या फैसला करता है।
उन्होंने कहा कि कोरोना के निराशावादी माहौल के बावजूद न तो एचडीएफसी बैंक और न ही उसकी सहायक एचडीबी फाइनेंस ने कर्मचारियों को नौकरी से निकाला। जहां उधारकर्ताओं के एक वर्ग ने दूसरे दौर के मोरेटोरियम में पहले तीन महीनों के लिए इसका लाभ उठाया था, वहीं बैंक के केवल 6% उधारकर्ताओं ने अपने लोन रीपेमेंट पर मोरेटोरियम का लाभ उठाया।
जल्द ही एचडीएफसी बैंक को मिलेगा नया एमडी 
पुरी ने एजीएम में बैंक के एमडी के रूप में अंदर के ही किसी अधिकारी को प्रमोट करने का संकेत दिया। अप्रैल में इस बैंक ने 3 अधिकारियों के नाम को आरबीआई के पास दिया था। इसमें से शशिधर जगदीशन और कायजाद भरूचा बैंक के अधिकारी हैं। शशिधर 1996 में बैंक में आए और 2008 में वे सीईओ बने। भरूचा ईडी हैं वे बैंक की स्टार्टअप टीम में हैं। तीसरा नाम सिटीबैंक के सुनील गर्ग का माना जा रहा था।
शेयरधारकों के सवालों के जवाब में पुरी ने कहा कि वे एक मजबूत प्रोसेस ड्रिवन वाले बैंक को छोड़कर जा रहे हैं। बैंक ने शनिवार को पहली तिमाही का परिणाम घोषित किया। इसमें उसे 6,658 करोड़ रुपए का शुद्ध मुनाफा हुआ।

(साभार – दैनिक भास्कर)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

three × three =