Home Blog

प्राप्ति ने कजाकिस्तान में जीता रजत पदक

0

कोलकाता : भवानीपुर कॉलेज की छात्रा प्राप्ति सेन ने कजाकिस्तान में तिरंगे की शान बढ़ाई। कजाकिस्तान में आयोजित टेबल टेनिस टूर्नामेंट में प्राप्ति ने रजत पदक जीता। डीन प्रो दिलीप शाह , प्रो मीनाक्षी चतुर्वेदी, दिव्या ऊदेशी, खेल प्रशिक्षक रूपेश गांधी और कॉलेज के उपाध्यक्ष मिराज शाह ने बधाई और शुभकामनाएं दी। प्राप्ति का यह पहला प्रयास था। डॉ. वसुंधरा मिश्र ने इसकी जानकारी दी।

भवानीपुर कॉलेज में छऊ लोकनृत्य कार्यशाला

0

कोलकाता : भवानीपुर एजूकेशन सोसाइटी कॉलेज के विद्यार्थियों ने छऊ लोकनृत्य कार्यशाला में भाग लिया। छऊ नृत्य मयूरभंज उड़ीसा का लोकनृत्य है जिसमें मार्शल आर्ट्स का का प्रयोग होता है। इसके अलावा पुरुलिया पश्चिम बंगाल और सेराइकला बिहार के मुखौटा नृत्य आदि को भी कार्यशाला में सिखाया गया। इस कार्यशाला में छऊ लोकनृत्य की विशेषज्ञ डॉ. शैली पॉल ने विद्यार्थियों को छऊ लोकनृत्य के कई प्रकारों को सिखाया। ढाई घंटे चलने वाली इस कार्यशाला में छब्बीस छात्र छात्राओं ने भाग लिया। कॉलेज में लोकनृत्य को बढ़ावा देने के लिए प्रो दिलीप शाह और कोऑर्डिनेटर प्रो मीनाक्षी चतुर्वेदी कार्यशाला के आयोजन के लिए पहल की।
डॉ शैली ने बताया कि बहुत से लोकनृत्य लुप्तप्राय होते जा रहे हैं। आज आवश्यकता है कि युवा पीढ़ी को भारतीय लोकनृत्य के लिए प्रोत्साहन देना चाहिए। छऊ नृत्य के लिए सरकारी प्रतिष्ठान छावनी कार्य कर रहे हैं। सेराइकला नृत्य बिहार का प्रमुख मुखौटा नृत्य है। बिहार सरकार भी लोकनृत्य को प्रोत्साहित कर रही है। पुरुलिया पश्चिम बंगाल में लोकनृत्य के लिए किसी भी तरह का सरकारी सहयोग नहीं दिया जा रहा है। डॉ. शैली ने छऊ लोकनृत्य पर पीएच.डी की डिग्री प्राप्त की है। विद्यार्थियों को इस नृत्य के कई प्रकारों जैसे युद्ध से संबंधित सिंदूर पिंधा हल्दी बाटा, गुट्टि ऊट्ठा, गोबर गुला, प्रकृति से संबंधित वॉक छाली, मयूर छाली, घारा तल्का, बाग दुमका आदि के विषय में दी। इस कार्यक्रम की जानकारी दी डॉ. वसुंधरा मिश्र ने ।

राष्ट्र प्रेम में महिलाओं के योगदान पर विचार मंथन

0

भारतीय भाषा परिषद और भारत जैन महामंडल लेडिज विंग ने किया आयोजन

कोलकाता :  भारतीय भाषा परिषद और भारत जैन महामंडल लेडिज विंग कोलकाता के संयुक्त संयोजन में भारतीय महिलाएँ और राष्ट्र प्रेम विषय पर चर्चा हुई। सर्वप्रथम भारतीय भाषा परिषद की अध्यक्ष डॉ कुसुम खेमानी के स्वागत वक्तव्य को संस्था की प्रशासनिक अधिकारी अमृता चतुर्वेदी ने पढ़ कर सभी का स्वागत किया।
प्रमुख अतिथि ताजा टीवी के डायरेक्टर वरिष्ठ संपादक विश्वंभर ने अपने वक्तव्य में वर्तमान समय में लड़कियों की स्थिति पर बहुत ही गंभीरता से विश्लेषण किया। समाज में पढ़ी-लिखी लड़कियों की समस्या , तलाक की समस्या, रूढ़िवादी समस्या और भविष्य में आने वाली चुनौतियों की ओर ध्यान आकृष्ट किया। राष्ट्र के लिए समर्पित प्रमुख समाचार पत्रों को चलाने वाली इंदु जैन आदि सशक्त महिलाओं के योगदान पर विचार किया। वहीं शिक्षाविद और साहित्यकार डॉ. वसुंधरा मिश्र ने अपने वक्तव्य में देश की प्रसिद्ध महिलाओं जिन्होंने राष्ट्रीय आंदोलन, सामाजिक क्षेत्र, खेल, मानव सेवा, सांस्कृतिक क्षेत्र, आर्थिक क्षेत्र, व्यापार जगत, पर्वतारोहण आदि में महत्वपूर्ण योगदान दिया उनके विषय में विस्तृत जानकारी दी। वीरांगनाएं देवी चौधरानी , रानी चेनम्मा, लक्ष्मीबाई, पंडिता रमाबाई, से लेकर पीटी उषा, कल्पना चावला, डॉ सरला बिरला, डॉ प्रतिभा पाटिल प्रथम राष्ट्रपति, कादंबिनी प्रथम चिकित्सक आदि विभिन्न क्षेत्रों में राष्ट्र के लिए समर्पित महिलाओं को नमन किया और उनसे प्रेरणा लेने की बात कही। शिक्षाविद वाणीश्री बाजोरिया ने भारत की स्त्री शक्ति को भारत की शक्ति बताते हुए कहा कि भारत ही ऐसा देश है जहाँ महान महिलाओं ने जन्म लिया है। युद्ध में हाडा़ रानी ने अपना सिर काट कर अपने पति को युद्ध क्षेत्र में भेजा जिससे वह मोह त्याग कर देश की रक्षा कर सके।
भारत जैन महामंडल लेडिज विंग कोलकाता की उपाध्यक्ष अंजू सेठिया द्वारा आयोजित और संयोजित इस कार्यक्रम संचालन करते हुए सभी अतिथियों का स्वागत किया। इस अवसर पर भारतीय महिलाएँ और राष्ट्र प्रेम विषय पर एक प्रतियोगिता भी रखी गई। प्रथम द्वितीय और तृतीय स्थान पर आई सदस्यों को पुरस्कृत किया गया। अंजू सेठिया ने भारत जैन महामंडल लेडिज विंग का परिचय देते हुए कहा कि यह 122 वर्ष पुरानी संस्था है और इसका उद्देश्य है जैन धर्म के सभी संप्रदाय को एक साथ जोड़ना है। अंत में, धन्यवाद ज्ञापन किया संस्था की अध्यक्ष सरोज भंसाली ने। इस अवसर पर 25 से अधिक महिलाएँ शामिल रही और विदुषी डॉ. सरला बिनानी ने कहा कि वाणी विचार और व्यवहार से मनुष्य जीवन में असंभव कार्य कर सकता है। भारतीय भाषा परिषद के मंत्री डॉ केयुर मजमूदार ने कार्यक्रम को फेसबुक पर लाइव प्रसारण किया। सभी सदस्याओं ने सक्रियता से भाग लिया।

हिन्द की तुम बेटी हो

0
– शुभम हिन्दुस्तानी,
गाजीपुर, उ.प्र.

अपनी हिम्मत को टंकार दो
वक्त को ललकार दो
हिन्द की तुम बेटी हो
वक्त को पछाड़ दो,

खुद को पहचान लो
बल को अपने धार दो
मुसीबतों को दो जवाब खरा
आत्मविश्वास, परिश्रम से
तुम हार को हरा दो।

नभ में अपनी जीत का
झण्डा तुम फहरा दो
हिन्द की तुम बेटी हो
अपनी जीत धरा पर
अपने तिरंगे को फहरा दो।।

 

क्या होती हैं बेटियाँ

————————

माँ बाप की शान होती हैं बेटियाँ
विपत्ति ही नहीं, हर समय
ईश्वर का वरदान होती हैं बेटियाँ
अन्धकार में जाड़े की घाम होती हैं बेटियाँ।।

कभी माँ, कभी बेटी. कभी बहू
हर रूप में घर की शान होती हैं बेटियाँ
माँ के रूप में संतान के लिए,
जेठ में शीतल छांव होती हैं बेटियाँ

बहू के रूप में एक नहीं
दो – दो घरों की शान होती हैं बेटियाँ
इस स्वार्थी संसार में
करुणा का वरदान होती हैं बेटियाँ

इतनी महान होकर भी
इस स्वार्थी संसार में
कुर्बान होती हैं बेटियाँ
मत मारो गर्भ में इनको
संसार की उत्पत्ति का आधार होती हैं बेटियाँ

कभी दुर्गा, कभी चामुंडा की
अवतार होती हैं बेटियाँ
समाज में इनकी हालत देखकर
फिर कहता हूँ, मत मारो इन्हें
बहुत महान होती हैं बेटियाँ।।

 

 

 

दिव्यांगों तथा वृद्धों का ख्याल रखने पर पुरस्कृत होंगी पूजा कमेटियाँ

0

‘कोविड सेफ दुर्गोत्सव’ पुरस्कार की घोषणा

कोलकाता : अब दुर्गा पूजा पंडालों में दिव्यांगों तथा वृद्धों की सुविधा का ध्यान रखने वाली पूजा कमेियों को पुरस्कृत किया जायेगा। इसके साथ ही कोविड प्रोटोकाल का पालन करने वाले पूजा कमेटियों को ‘कोविड सेफ दुर्गोत्सव’ पुरस्कार से नवाजा जाएगा। एनआईपी एनजीओ, फोरम फॉर दुर्गोत्सव, रोटरी डिस्ट्रिक्ट 3291 और नारायण मेमोरियल अस्पताल के सहयोग से पूजा समितियों के लिए पुरस्कारों की घोषणा की गयी।

नेशनल इंस्टीच्यूट आफ प्रोफेशनल (एनआईपी) एनआईपी के सचिव देबज्योति रॉय ने बताया कि फोरम फॉर दुर्गोत्सव 2010 से ही इस संबंध में सक्रिय रूप से काम कर रहा है। उन्होंने कहा कि मुख्य मकसद है कोविड प्रोटोकॉल बनाए रखने के साथ वरिष्ठ नागरिकों और दिव्यांगों के लिए पूजा पंडालों को अनुकूल बनाना। फोरम फॉर दुर्गोत्सव में 350 दुर्गा पूजा समितियां शामिल हैं।

नारायण मेमोरियल हॉस्पिटल (बेहला) की सीईओ सुपर्णा सेनगुप्ता, नारायण मेमोरियल हॉस्पिटल के क्रिटिकल केयर सलाहकार डॉ. प्रसून कुमार मित्रा, रोटरी डिस्ट्रिक्ट 3291 के डिस्ट्रिक्ट गवर्नर प्रवीर चटर्जी, अभिनेता देबशंकर हल्दर  आदि मौजूद थे।

रॉय ने कहा कि एनआईपी ने अपनी यात्रा 2002 में शुरू की थी। शुरुआत से ही यह विकलांगों के सामाजिक-सांस्कृतिक और आर्थिक विकास के लिए प्रयासरत है। 2012 में एनआईपी को इस क्षेत्र में उत्कृष्ट उपलब्धि के लिए महिला एवं बाल विकास और समाज कल्याण विभाग से पुरस्कार मिला था। उन्होंने कहा कि एनआईपी ने पहली बार महसूस किया कि दिव्यांग बंगाल के सबसे बड़े धार्मिक त्योहार दुर्गा पूजा का आनंद लेने से वंचित हैं। पूजा पंडाल तक पहुंचना न केवल दिव्यांगों के लिए बल्कि वरिष्ठ नागरिकों के लिए भी कठिन काम है।फोरम फॉर दुर्गोत्सव एनआईपी के सहयोग से वरिष्ठ नागरिकों के अनुकूल पंडालों के निर्माण के लिए सर्वश्रेष्ठ पूजा समिति को पुरस्कृत करेगा।

इस अवसर पर सुपर्णा सेनगुप्ता ने कहा कि एनआईपी की ओर से सूचीबद्ध पूजा समितियों के लिए पंडाल प्रोटोकॉल सेट करने के लिए चुना जाना गर्व की बात है। उन्होंने कहा कि कोरोना की तीसरी लहर दस्तक दे रही है और इसके परिणामस्वरूप हमें बाहर जाते समय अतिरिक्त सतर्क रहने की जरूरत है विशेष रूप से पंडाल में। पूजा समितियों को प्रोटोकॉल के अनुसार पंडालों की योजना बनाने की सलाह दी गई है। प्रबीर चटर्जी ने एनआईपी के इस प्रयास की सराहना की और रोटरी क्लब के पूरे सहयोग का आश्वासन दिया।

पुत्री दिवस पर भवानीपुर 75 पल्ली ने किया छऊ नर्तकों के बच्चों में वस्त्र वितरण

0

कोलकाता : विश्व पुत्री दिवस पर भवानीपुर 75 पल्ली पूजा कमेटी पुरुलिया के 250 छऊ नर्तकों के बच्चों को वस्त्र वितरित किया । सामाजिक दायित्व का निर्वहन करते हुए कमेटी पुरुलिया के छऊ गाँव में यह आयोजन किया । इस वर्ष अपनी थीम ‘मानविक’ को सार्थक करते हुए भवानीपुर 75 पल्ली पूजा समिति ने अपनी सीएसआर पहल में यह कार्य किया। कमेटी छऊ नर्तकों की सहायता के लिए आगे आई है जो लॉकडाउन से बुरी तरह प्रभावित हुए हैं। छऊ एक पारम्परिक नृत्य है जिसमें नर्तक रामायण एवं महाभारत जैसे पौराणिक आख्यानों को अपने नृत्य के माध्यम से जीवन्त करते हैं। इस दुर्गा पूजा कमेटी के सचिव सुबीर दास ने कहा कि कमेटी ने पुरुलिया के चारिदा गाँव में 250 छऊ नर्तकों के बच्चों को वस्त्र वितरित किया है और उनके परिवार के सदस्यों को भी वस्त्र दिये जाएंगे। दुर्गा पूजा के दौरान छऊ नर्तकों के ऐसे 50 परिवारों की सहायता की जायेगी।

हिन्दी दिवस पर युवा काव्य गोष्ठी

0

फ्लिपकार्ट होलसेल अब जनरल मर्चेन्डाइज श्रेणी में रखेगा कदम

0

कोलकाता : फ्लिपकार्ट होलसेल अब जनरल मर्चेंडाइज श्रेणी में कदम रखने जा रहा है। इसके पोर्ट फोलियों 24 हजार से अधिक उत्पाद हैं। इनमें होम टेक्सटाइल, कुकवेयर स्टोरेज समेत कई अन्य श्रेणियाँ शामिल हैं। यह प्लेटफॉर्म 1350 से अधिक शहरों एवं 8 हजार पिनकोड पर ग्राहकों को उत्पाद पहुँचायेगा। अगले 6 माह में यहाँ पर 55 हजार उत्पाद और 1 हजार से अधिक विक्रेताओं को जोड़ने का लक्ष्य है। यह जानकारी फ्लिपकार्ट होलसेल के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट तथा हेड आदर्श मेनन ने दी।

बीएचएस में आयोजित हुआ ‘ओडिशी’

0

कोलकाता : बिड़ला हाई स्कूल का द्विवार्षिक उत्सव ‘ओडिशी’ हाल ही में आयोजित किया गया। इस कार्यक्रम सह प्रतियोगिता में 10 शिक्षण संस्थानों के प्रतिभागियों ने 11 प्रतियोगिताओं में भाग लिया। ऑफलाइन प्रतियोगिताओं के लिए प्रविष्टियाँ मेजबान स्कूल को गत 8 सितम्बर को जमा की गयीं। इनमें फैशन शो, कन्टम्परेरी डांस, फ्यूजन बैंड, रचनात्मक लेखन, ऐप डेवलपमेंट और प्रोडक्ट मार्केटिंग जैसी प्रविष्टियाँ शामिल थीं। गत 10 सितम्बर को विद्या मंदिर सोसायटी के महासचिव मेजर जनरल (सेवानिवृत्त) वी. एन. चतुर्वेदी, बिड़ला स्कूल की निदेशक मुक्ता नैन, बिड़ला हाई स्कूल की प्रिंसिपल लवलीन सैगल ने ‘ओडिशी’ का उद्घाटन किया। पहले दिन स्टैंड अप कॉमेडी प्रतियोगिता हुई जिसके विजेताओं का निर्णय रेडियो 91.9 रेडियो एफ एम के प्रमुख जिमी टैंगरी और महादेवी बिड़ला वर्ल्ड अकादमी की वाइस प्रिंसिपल नुपुर घोष ने किया। इसके बाद वाद – विवाद प्रतियोगिता डबल क्रॉस लर्निंग एवं डेवलपमेंट सलाहकारम लेज्ली डी गामा के संचालन में आयोजितक हुई। इसका निर्णय ला मार्टिनेल हाई स्कूल की प्रिंसिपल वन्दना पॉल तथा फ्यूचर होम के निदेशक (ऑपरेशन) समरजीत गुहा ने किया। इसके बाद स्कूल के प्रतिनिधियों के लिए ट्रेजर्स हंट आयोजित हुआ। दूसरे दिन क्विज प्रतियोगिता हुई जिसमें 6 स्कूलों ने भाग लिया। साउथ सिटी इंटरनेशनल विजेता बना, दूसरे स्थान पर बिड़ला हाई स्कूल रहा। गायक अनुव जैन ने जूम पर प्रस्तुति दी। कार्यक्रम को सफल बनाने में स्टूडेंट काउंसिल के अध्यक्ष देवांशु चौधरी, तीन कोषाध्यक्ष मानव सिंधी, उत्कर्ष बागड़िया, भास्कर अग्रवाल, टेत्निकल हेड नेम शाह तथा नौवीं और दसवीं कक्षा के विद्यार्थियों का विशेष योगदन रहा।

एचआईटीके के पूर्व छात्र ने बनाया सेल्फ क्लीनिंग रियूजेबल फेस मास्क

0

कोलकाता : हेरिटेज इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एचआईटीके) डिपार्टमेंट ऑफ बायोटेक्नोलॉजी, बैच -2008 के पूर्व छात्र डॉ अमित जायसवाल, वर्तमान में आईआईटी मंडी में एसोसिएट प्रोफेसर हैं, ने अपनी टीम के साथ कोविड के प्रसार को रोकने के लिए एक सेल्फ क्लीनिंग रियूजेबल फेस मास्क का आविष्कार किया है। इस मास्क को बनाने के लिए नैनोमीटर आकार की चादरों का उपयोग किया गया है जो मानव बाल की चौड़ाई से 100000 गुना छोटी हैं जो रोगाणुओं को साफ कर सकती हैं और सौर प्रकाश से साफ करने योग्य हैं। यह कपड़े की सांस लेने की क्षमता से समझौता किए बिना 96 प्रतिशत वायरस को साफ कर सकता है जो कोविड -19 के आकार की सीमा में हैं।
हाल ही में डॉ. अमित ने आईआईटी मंडी में संस्थान के मुख्य वार्डन के रूप में संस्थान सेवा में उत्कृष्टता के लिए स्थापना दिवस पुरस्कार 2021 प्राप्त किया। हेरिटेज इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी कोलकाता के प्रिंसिपल प्रोफेसर बासब चौधरी ने कहा, “यह हमारे संस्थान के लिए एक अच्छी खबर है और हमें डॉ अमित पर गर्व है।”